noImage

उबैदुर्रहमान आज़मी

आज़मगढ़, भारत

उबैदुर्रहमान आज़मी के संपूर्ण

नज़्म 1

 

शेर 1

फ़लक से मुझ को शिकवा है ज़मीं से मुझ को शिकवा है

यक़ीं मानो तो ख़ुद अपने यक़ीं से मुझ को शिकवा है

  • शेयर कीजिए
 

"आज़मगढ़" के और शायर

  • अख़तर मुस्लिमी अख़तर मुस्लिमी
  • मिर्ज़ा अतहर ज़िया मिर्ज़ा अतहर ज़िया
  • सरफ़राज़ नवाज़ सरफ़राज़ नवाज़
  • नौशाद अशहर नौशाद अशहर
  • तबस्सुम आज़मी तबस्सुम आज़मी
  • रहमत इलाही बर्क़ आज़मी रहमत इलाही बर्क़ आज़मी
  • मुख़तसर आज़मी मुख़तसर आज़मी
  • इक़बाल सुहैल इक़बाल सुहैल
  • संदीप गांधी नेहाल संदीप गांधी नेहाल
  • शाद बिलगवी शाद बिलगवी