ग़ज़ल 31

शेर 2

तू मेरे सज्दों की लाज रख ले शुऊर-ए-सज्दा नहीं है मुझ को

ये सर तिरे आस्ताँ से पहले किसी के आगे झुका नहीं है

  • शेयर कीजिए

रूह में जिस ने ये दहशत सी मचा रक्खी है

उस की तस्वीर गुमाँ भर तो बना सकते हैं

 

पुस्तकें 4

Anhar

 

2004

Mishraq

 

2009

Nakhl-e-Aab

 

2015

Nuqte Mein Simatti Roshni

 

1946

 

ऑडियो 6

इक धुआँ उठ रहा है आँगन से

इक फ़लक और ही सर पर तो बना सकते हैं

एक सहरा है मिरी आँख में हैरानी का

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"श्रीनगर" के और शायर

  • फ़ारूक़ नाज़की फ़ारूक़ नाज़की
  • हामिदी काश्मीरी हामिदी काश्मीरी
  • आयाज़ रसूल नाज़की आयाज़ रसूल नाज़की
  • शफ़क़ सुपुरी शफ़क़ सुपुरी
  • इरफ़ान अहमद मीर इरफ़ान अहमद मीर
  • फ़रीद परबती फ़रीद परबती
  • हमदम कशमीरी हमदम कशमीरी
  • मुज़फ़्फ़र इरज मुज़फ़्फ़र इरज
  • क़तील मेहदी क़तील मेहदी