noImage

सनम प्रतापगढ़ी

शेर 2

ख़ुद ही परवाने जल गए वर्ना

शम्अ जलती है रौशनी के लिए

the moths got burned in their own plight

the flame just burns to shed some light

the moths got burned in their own plight

the flame just burns to shed some light

  • शेयर कीजिए

हो सके तो जवाब दे देना

ये मोहब्बत का आख़िरी ख़त है

  • शेयर कीजिए