Saqib Lakhnavi's Photo'

साक़िब लखनवी

1869 - 1946 | लखनऊ, भारत

प्रमुख उत्तर कलासिकी शायर / अपने शेर ‘बड़े ग़ौर से सुन रहा था ज़माना...’ के लिए मशहूर

प्रमुख उत्तर कलासिकी शायर / अपने शेर ‘बड़े ग़ौर से सुन रहा था ज़माना...’ के लिए मशहूर

ग़ज़ल 46

शेर 19

ज़माना बड़े शौक़ से सुन रहा था

हमीं सो गए दास्ताँ कहते कहते

  • शेयर कीजिए

बाग़बाँ ने आग दी जब आशियाने को मिरे

जिन पे तकिया था वही पत्ते हवा देने लगे

आधी से ज़ियादा शब-ए-ग़म काट चुका हूँ

अब भी अगर जाओ तो ये रात बड़ी है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

Deewan-e-Saqib

 

1936

इंतिख़ाब-ए-ग़ज़लियात-ए-साक़िब

 

1983

Saqib Lukhnowi Hayat Aur Shaeri

 

1984

 

संबंधित शायर

  • मिर्ज़ा हादी रुस्वा मिर्ज़ा हादी रुस्वा समकालीन
  • उफ़ुक़ लखनवी उफ़ुक़ लखनवी समकालीन
  • रियाज़ ख़ैराबादी रियाज़ ख़ैराबादी समकालीन
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी समकालीन

"लखनऊ" के और शायर

  • वाली आसी वाली आसी
  • आदिल लखनवी आदिल लखनवी
  • गोपी नाथ अम्न गोपी नाथ अम्न
  • ज़रीफ़ लखनवी ज़रीफ़ लखनवी
  • मुंशी नौबत राय नज़र लखनवी मुंशी नौबत राय नज़र लखनवी
  • सफ़ी लखनवी सफ़ी लखनवी
  • मिर्ज़ा हादी रुस्वा मिर्ज़ा हादी रुस्वा
  • अज़ीज़ लखनवी अज़ीज़ लखनवी
  • नज़्म तबातबाई नज़्म तबातबाई
  • नादिर काकोरवी नादिर काकोरवी