सरवर आलम राज़

ग़ज़ल 12

नज़्म 1

 

अशआर 9

आरज़ू हसरत और उम्मीद शिकायत आँसू

इक तिरा ज़िक्र था और बीच में क्या क्या निकला

बे-कैफ़ जवानी है बे-दर्द ज़माना है

नाकाम-ए-मोहब्बत का इतना ही फ़साना है

शौक़ है तुझ को ज़माने में तिरा नाम रहे

और मुझे डर है मोहब्बत मिरी बद-नाम हो

आग़ाज़-ए-मोहब्बत से अंजाम-ए-मोहब्बत तक

''इक आग का दरिया है और डूब के जाना है'

देख ये जज़्ब-ए-मोहब्बत का करिश्मा तो नहीं

कल जो तेरे दिल में था वो आज मेरे दिल में है

पुस्तकें 6

 

संबंधित शायर

"टेक्सास" के और शायर

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए