Sarwat Zehra's Photo'

सरवत ज़ेहरा

1972 | संयुक्त अरब अमीरात

महत्वपूर्ण पाकिस्तानी शायरात में विख्यात, दुबई में प्रवास

महत्वपूर्ण पाकिस्तानी शायरात में विख्यात, दुबई में प्रवास

ग़ज़ल 17

नज़्म 17

शेर 13

बिंत-ए-हव्वा हूँ मैं ये मिरा जुर्म है

और फिर शाएरी तो कड़ा जुर्म है

  • शेयर कीजिए

ख़्वाब और तमन्ना का क्या हिसाब रखना है

ख़्वाहिशें हैं सदियों की उम्र तो ज़रा सी है

जाने वाले को चले जाना है

फिर भी रस्मन ही पुकारा जाए

चित्र शायरी 1

और तो क्या था बेचने के लिए अपनी आँखों के ख़्वाब बेचे हैं

 

वीडियो 7

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Dard Ke Aawe Me Chuhla Na Jale Tab Kiya Ho

Karachi born well known poet Dr.Sarwat Zehra who is currently residing in Dubai, reciting her poetries at Rekhta Studio.She is one of the few female writers who have haven't restricted herself to a certain part, but prefers to write over subjects which have either not touched previously or less has been said in this regard so far.Sarwat's poety is the reflection of her own emotions and feelings yet not different from the mass. सरवत ज़ेहरा

अजाइब-ख़ाना

मिरा वजूद सरवत ज़ेहरा

आमरियत का क़सीदा

भारी बूटों-तले रौंदते जाइए सरवत ज़ेहरा

इंटरनेट-स्थान की मलिका

इंटरनेट-स्थान पे बैठी ख़्वाब की मलका! सरवत ज़ेहरा

निगाह-ए-ख़ाक! ज़रा पैराहन बदलना तो

सरवत ज़ेहरा

बे-परों की तितली

ये झाड़न की मिट्टी से सरवत ज़ेहरा

बिंत-ए-हव्वा

बिंत-ए-हव्वा हूँ मैं ये मिरा जुर्म है सरवत ज़ेहरा

ऑडियो 11

ख़ाली ख़ाली रस्तों पे बे-कराँ उदासी है

निगाह-ए-ख़ाक! ज़रा पैराहन बदलना तो

हज़ार टूटे हुए ज़ावियों में बैठी हूँ

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI