Sauda Mohammad Rafi's Photo'

मोहम्मद रफ़ी सौदा

1713 - 1780

18वी सदी के बड़े शायरों में शामिल, मीर तक़ी 'मीर' के समकालीन।

18वी सदी के बड़े शायरों में शामिल, मीर तक़ी 'मीर' के समकालीन।

ग़ज़ल 52

शेर 61

किया अज़ल से है साने' ने बुत-परस्त मुझे

कभू बुतों से फिरूँ मैं ये तो ख़ुदा करे

  • शेयर कीजिए

तुम कान धर सुनो सुनो उस के हर्फ़ को

'सौदा' को हैगी अपनी ही गुफ़्तार से ग़रज़

  • शेयर कीजिए

नौबत-ए-क़ैस हो चुकी आख़िर

अब तो 'सौदा' का बाजता है नाँव

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 39

Afkar-e-Sauda

 

1961

Dard-o-Sauda

 

1995

Deewan-e-Sauda

Ghazaliyat-e-Mirza Mohammad Rafi Sauda

1985

Hindustani Adab Ke Memar: Mirza Mohammad Rafi Sauda

 

1990

Intekha-e-Deewan-e-Sauda

 

1957

Intikhab Ghazaliyat-e-Sauda

 

1992

Intikhab-e-Sauda

 

1993

इंतिख़ाब-ए-सौदा

 

2004

इंतिख़ाब-ए-सौदा

 

 

Intikhab-e-Sauda

 

 

वीडियो 7

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
Mirza Rafi Sauda

Zia talks about Mirza Rafi Sauda ज़िया मोहीउद्दीन

गुल फेंके है औरों की तरफ़ बल्कि समर भी

बेगम अख़्तर

जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ

अमानत अली ख़ान

जो गुज़री मुझ पे मत उस से कहो हुआ सो हुआ

टीना सानी

दिल मत टपक नज़र से कि पाया न जाएगा

श्रुति सडोलिकर काटकर

नसीम है तिरे कूचे में और सबा भी है

मेहदी हसन

वे सूरतें इलाही किस मुल्क बस्तियाँ हैं

आबिदा परवीन

संबंधित शायर

  • क़ाएम चाँदपुरी क़ाएम चाँदपुरी गुरु
  • ख़्वाजा मीर दर्द ख़्वाजा मीर दर्द समकालीन
  • सिराज औरंगाबादी सिराज औरंगाबादी समकालीन
  • रंगीन सआदत यार ख़ाँ रंगीन सआदत यार ख़ाँ समकालीन
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श समकालीन
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई समकालीन
  • मीर तक़ी मीर मीर तक़ी मीर समकालीन
  • दाऊद औरंगाबादी दाऊद औरंगाबादी समकालीन
  • जाफ़र अली हसरत जाफ़र अली हसरत समकालीन
  • मोहम्मद अमान निसार मोहम्मद अमान निसार समकालीन

Added to your favorites

Removed from your favorites