noImage

शफ़ीक़ रिज़वी

शेर 1

उस मरज़ को मरज़-ए-इश्क़ कहा करते हैं

दवा होती है जिस की दुआ होती है

  • शेयर कीजिए