Shahab Jafri's Photo'

शहाब जाफ़री

1930 - 2000 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 14

नज़्म 8

शेर 4

चले तो पाँव के नीचे कुचल गई कोई शय

नशे की झोंक में देखा नहीं कि दुनिया है

  • शेयर कीजिए

तू इधर उधर की बात कर ये बता कि क़ाफ़िला क्यूँ लुटा

मुझे रहज़नों से गिला नहीं तिरी रहबरी का सवाल है

  • शेयर कीजिए

पाँव जब सिमटे तो रस्ते भी हुए तकिया-नशीं

बोरिया जब तह किया दुनिया उठा कर ले गए

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

सूरज का शहर

 

1967

 

चित्र शायरी 2

चले तो पाँव के नीचे कुचल गई कोई शय नशे की झोंक में देखा नहीं कि दुनिया है

चले तो पाँव के नीचे कुचल गई कोई शय नशे की झोंक में देखा नहीं कि दुनिया है

 

संबंधित शायर

  • मोहम्मद अल्वी मोहम्मद अल्वी समकालीन
  • मुज़फ़्फ़र वारसी मुज़फ़्फ़र वारसी समकालीन
  • इब्राहीम अश्क इब्राहीम अश्क शिष्य
  • ज़फ़र गोरखपुरी ज़फ़र गोरखपुरी समकालीन

"दिल्ली" के और शायर

  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • इंशा अल्लाह ख़ान इंशा इंशा अल्लाह ख़ान इंशा
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • राजेन्द्र मनचंदा बानी राजेन्द्र मनचंदा बानी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़