शाहिदा मजीद

ग़ज़ल 14

अशआर 2

किसी ने फिर से लगाई सदा उदासी की

पलट के आने लगी है फ़ज़ा उदासी की

ज़मीन-ए-दिल पे मोहब्बत की आब-यारी को

बहुत ही टूट के बरसी घटा उदासी की

 

"लाहौर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए