शेर 1

हर एक कूचा है साकित हर इक सड़क वीराँ

हमारे शहर में तक़रीर कर गया ये कौन

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 1

Erab

 

1988

 

"गोरखपुर" के और शायर

  • अख़तर बस्तवी अख़तर बस्तवी
  • फ़हीम गोरखपुरी फ़हीम गोरखपुरी
  • मुस्लिम अंसारी मुस्लिम अंसारी
  • रियाज़ गोरखपुरी रियाज़ गोरखपुरी
  • शमीम फ़ारूक़ बांस पारी शमीम फ़ारूक़ बांस पारी