noImage

शरर बलयवी

शेर 1

सुब्ह-दम ज़ुल्फ़ें यूँ बिखराइए

लोग धोका खा रहे हैं शाम का

  • शेयर कीजिए
 

ई-पुस्तक 1