Shariq Kaifi's Photo'

शारिक़ कैफ़ी

1961 | बरेली, भारत

शारिक़ कैफ़ी

ग़ज़ल 48

नज़्म 33

अशआर 62

घर में ख़ुद को क़ैद तो मैं ने आज किया है

तब भी तन्हा था जब महफ़िल महफ़िल था मैं

  • शेयर कीजिए

वो बात सोच के मैं जिस को मुद्दतों जीता

बिछड़ते वक़्त बताने की क्या ज़रूरत थी

रात थी जब तुम्हारा शहर आया

फिर भी खिड़की तो मैं ने खोल ही ली

  • शेयर कीजिए

हैं अब इस फ़िक्र में डूबे हुए हम

उसे कैसे लगे रोते हुए हम

कौन कहे मा'सूम हमारा बचपन था

खेल में भी तो आधा आधा आँगन था

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 5

 

चित्र शायरी 6

 

वीडियो 14

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

शारिक़ कैफ़ी

शारिक़ कैफ़ी

Kisi ke samajhdar hone talak_Nazm by Shariq Kaifi

Shariq Kaifi, one of the leading Urdu poet from India reciting his ghazals at Mushaira at Delhi in 2014 organized by Rekhta.org - the largest website for Urdu poetry. शारिक़ कैफ़ी

Kuch qadam aur jism ko dhona hai yahan_Shariq kaifi

Shariq Kaifi, one of the leading Urdu poet from India reciting his ghazals at Mushaira at Delhi in 2014 organized by Rekhta.org - the largest website for Urdu poetry. शारिक़ कैफ़ी

Mahol banane wale jumle_Nazm by Shariq kaifi

Shariq Kaifi, one of the leading Urdu poet from India reciting his ghazals at Mushaira at Delhi in 2014 organized by Rekhta.org - the largest website for Urdu poetry. शारिक़ कैफ़ी

Shariq Kaifi reciting his Ghazal/Nazm at Mushaira (Shaam-e-Sher) by Rekhta.org-2014

Shariq Kaifi, one of the leading Urdu poet from India reciting his ghazals at Mushaira at Delhi in 2014 organized by Rekhta.org - the largest website for Urdu poetry. शारिक़ कैफ़ी

Tere gham se ubharna chahta hun_Shariq kaifi

Shariq Kaifi, one of the leading Urdu poet from India reciting his ghazals at Mushaira at Delhi in 2014 organized by Rekhta.org - the largest website for Urdu poetry. शारिक़ कैफ़ी

शारिक़ कैफ़ी

Shariq Kaifi is a famous Urdu poet from Bareily (U.P.). Watch him reciting his ghazal at Rekhta Studio. शारिक़ कैफ़ी

शारिक़ कैफ़ी..

Shariq Kaifi is a famous Urdu poet from Bareily (U.P.). Watch him reciting his ghazal at Rekhta Studio. शारिक़ कैफ़ी

कुछ क़दम और मुझे जिस्म को ढोना है यहाँ

शारिक़ कैफ़ी

निगाह नीची हुई है मेरी

शारिक़ कैफ़ी

ये चुपके चुपके न थमने वाली हँसी तो देखो

शारिक़ कैफ़ी

यूँ भी सहरा से हम को रग़बत है

शारिक़ कैफ़ी

हैं अब इस फ़िक्र में डूबे हुए हम

शारिक़ कैफ़ी

ऑडियो 18

इंतिहा तक बात ले जाता हूँ मैं

एक मुद्दत हुई घर से निकले हुए

कहीं न था वो दरिया जिस का साहिल था मैं

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

"बरेली" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए