Siraj Lakhnavi's Photo'

सिराज लखनवी

1894 - 1960

ग़ज़ल 30

नज़्म 1

 

शेर 55

आँखें खुलीं तो जाग उठीं हसरतें तमाम

उस को भी खो दिया जिसे पाया था ख़्वाब में

as my eyes did ope my yearnings did rebound

for I lost the person who in my dreams I found

  • शेयर कीजिए

आप के पाँव के नीचे दिल है

इक ज़रा आप को ज़हमत होगी

  • शेयर कीजिए

कहाँ हैं आज वो शम-ए-वतन के परवाने

बने हैं आज हक़ीक़त उन्हीं के अफ़्साने

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 2

शोला-ए-आवाज़

 

1920

Shola-e-Awaz

 

1960

 

चित्र शायरी 3

आप के पाँव के नीचे दिल है इक ज़रा आप को ज़हमत होगी

आँखें खुलीं तो जाग उठीं हसरतें तमाम उस को भी खो दिया जिसे पाया था ख़्वाब में

आँखें खुलीं तो जाग उठीं हसरतें तमाम उस को भी खो दिया जिसे पाया था ख़्वाब में

 

संबंधित शायर

  • हयात वारसी हयात वारसी शिष्य