Sultan Akhtar's Photo'

सुल्तान अख़्तर

1940 | पटना, भारत

अग्रणी आधुनिक शायरों में विख्यात।

अग्रणी आधुनिक शायरों में विख्यात।

ग़ज़ल 48

शेर 10

मैं वो सहरा जिसे पानी की हवस ले डूबी

तू वो बादल जो कभी टूट के बरसा ही नहीं

फ़ुर्सत में रहा करते हैं फ़ुर्सत से ज़्यादा

मसरूफ़ हैं हम लोग ज़रूरत से ज़्यादा

सफ़र सफ़र मिरे क़दमों से जगमगाया हुआ

तरफ़ तरफ़ है मिरी ख़ाक-ए-जुस्तुजू रौशन

ई-पुस्तक 3

ग़ज़लिस्तान

 

2014

Intisab

 

1994

Pas-e-Arz-e-Hunar

 

2016

 

वीडियो 21

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Cheenle quwat e binaai khudaya mujhse

Sultan Akhtar one of prominent modern poets from Patna. सुल्तान अख़्तर

Hareef-e-waqt hoon hai sab se juda raat meri

Sultan Akhtar one of prominent modern poets from Patna. सुल्तान अख़्तर

Kaam aati nahi ab koi tadbeer hamari

Sultan Akhtar one of prominent modern poets from Patna. सुल्तान अख़्तर

Kaam aati nahi ab koi taqdeer hamari Ghazal by Sultan Akhtar

Sultan Akhtar one of prominent modern poets from Patna. सुल्तान अख़्तर

Kasaye dil se lahoo ankhon se pani le gaya Couplet by Sultan Akhtar

Sultan Akhtar one of prominent modern poets from Patna. सुल्तान अख़्तर

Khaab aankhon se chune neend ko veeran kya

सुल्तान अख़्तर

Khaak udti hai kharidaar kahan kho gaye hain

सुल्तान अख़्तर

Khana barbaad huye be dar o deewar rahe

सुल्तान अख़्तर

Main ladhkhadaya to mujhko gale lagane lage

सुल्तान अख़्तर

Raqs e Taus e Tamanna nahi hone wala

सुल्तान अख़्तर

Sultan Akhtar reciting his Ghazal/Nazm at Mushaira (Shaam-e-Sher) by Rekhta.org-2014

Sultan Akhtar one of prominent modern poets from Patna. सुल्तान अख़्तर

Ye jo hum rakhte garabar sambhale huye hain Ghazal by Sultan Akhtar

Sultan Akhtar one of prominent modern poets from Patna. सुल्तान अख़्तर

chhiin le quvvat biinaa.ii KHudaayaa mujh se

सुल्तान अख़्तर

hariif-e-vaqt huu.n sab se judaa hai raah mirii

सुल्तान अख़्तर

kaam aatii nahii.n ab ko.ii tadbiir hamaarii

सुल्तान अख़्तर

KHaak u.Dtii hai KHariidaar kahaa.n kho ga.e hai.n

सुल्तान अख़्तर

KHaana-barbaad hu.e be-dar-o-diivaar rahe

सुल्तान अख़्तर

mai.n la.Dkha.Daayaa to mujh ko gale lagaane lage

सुल्तान अख़्तर

raqs kartaa hai ba-andaaz-e-junuu.n dau.Dtaa hai

सुल्तान अख़्तर

raqs-e-taa.uus-e-tamannaa nahii.n hone vaalaa

सुल्तान अख़्तर

ख़्वाब आँखों से चुने नींद को वीरान किया

सुल्तान अख़्तर

ऑडियो 20

अपनी तहज़ीब की दीवार सँभाले हुए हैं

काम आती नहीं अब कोई तदबीर हमारी

किसी के वास्ते जीता है अब न मरता है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • आदिल मंसूरी आदिल मंसूरी समकालीन
  • निदा फ़ाज़ली निदा फ़ाज़ली समकालीन

"पटना" के और शायर

  • मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम
  • मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल
  • इश्क़ औरंगाबादी इश्क़ औरंगाबादी
  • अम्बर बहराईची अम्बर बहराईची
  • मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा
  • अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ
  • मुस्तफ़ा खां यकरंग मुस्तफ़ा खां यकरंग
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • निदा फ़ाज़ली निदा फ़ाज़ली
  • अमीर क़ज़लबाश अमीर क़ज़लबाश