noImage

तालिब जयपुरी

1911

शेर 3

बे-ख़ुदी में हम तो तेरा दर समझ कर झुक गए

अब ख़ुदा मालूम काबा था कि वो बुत-ख़ाना था

  • शेयर कीजिए

आँखों में आँसू लब पर तबस्सुम

मोहब्बत में ऐसे भी लम्हात आए

  • शेयर कीजिए

उन की तरफ़ भी देखो ज़रा गदा-नवाज़

दामन ही तेरे सामने फैला के रह गए

  • शेयर कीजिए
 

ई-पुस्तक 9

Gul-e-Sahra

 

1967

Khatoon-e-Mashriq,Delhi

Shumara Number-010

1954

Khatoon-e-Mashriq,Delhi

Shumara Number-001,002

1951