Yagana Changezi's Photo'

यगाना चंगेज़ी

1884 - 1956 | लखनऊ, भारत

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायर जिन्होंने नई ग़ज़ल के लिए राह बनाई/मिर्ज़ा ग़ालिब के विरोध के लिए प्रसिद्ध

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायर जिन्होंने नई ग़ज़ल के लिए राह बनाई/मिर्ज़ा ग़ालिब के विरोध के लिए प्रसिद्ध

ग़ज़ल 64

शेर 49

गुनाह गिन के मैं क्यूँ अपने दिल को छोटा करूँ

सुना है तेरे करम का कोई हिसाब नहीं

  • शेयर कीजिए

मुसीबत का पहाड़ आख़िर किसी दिन कट ही जाएगा

मुझे सर मार कर तेशे से मर जाना नहीं आता

कशिश-ए-लखनऊ अरे तौबा

फिर वही हम वही अमीनाबाद

  • शेयर कीजिए

रुबाई 31

ई-पुस्तक 26

Aayat-e-Wajdani

 

 

अायात-ए-विज्दानी

 

1927

Aayat-e-Wijdani

 

1934

Ayat-e-Wajdani

 

1945

चराग़-ए-सुख़न

 

1996

चराग़-ए-सुख़न

 

1914

Ganjeena

 

 

Ghalib Shikan

 

1934

ग़ालिब शिकन अातिशा

 

1935

इंतिख़ाब-ए-कलाम-ए-यगाना चंगेज़ी

 

1988

चित्र शायरी 4

बैठा हूँ पाँव तोड़ के तदबीर देखना मंज़िल क़दम से लिपटी है तक़दीर देखना आवाज़े मुझ पे कसते हैं फिर बंदगान-ए-इश्क़ पड़ जाए फिर न पाँव में ज़ंजीर देखना मुर्दों से शर्त बाँध के सोई है अपनी मौत हाँ देखना ज़रा फ़लक-ए-पीर देखना होश उड़ न जाएँ सनअत-ए-बेहज़ाद देख कर आईना रख के सामने तस्वीर देखना परवाने कर चुके थे सर-अंजाम ख़ुद-कुशी फ़ानूस आड़े आ गया तक़दीर देखना शायद ख़ुदा-न-ख़ास्ता आँखें दग़ा करें अच्छा नहीं नविश्ता-ए-तक़दीर देखना बाद-ए-मुराद चल चुकी लंगर उठाओ 'यास' फिर आगे बढ़ के ख़ूबी-ए-तक़दीर देखना

क्यूँ किसी से वफ़ा करे कोई दिल न माने तो क्या करे कोई

क्यूँ किसी से वफ़ा करे कोई दिल न माने तो क्या करे कोई

मुझे दिल की ख़ता पर 'यास' शरमाना नहीं आता पराया जुर्म अपने नाम लिखवाना नहीं आता मुझे ऐ नाख़ुदा आख़िर किसी को मुँह दिखाना है बहाना कर के तन्हा पार उतर जाना नहीं आता मुसीबत का पहाड़ आख़िर किसी दिन कट ही जाएगा मुझे सर मार कर तेशे से मर जाना नहीं आता दिल-ए-बे-हौसला है इक ज़रा सी ठेस का मेहमाँ वो आँसू क्या पिएगा जिस को ग़म खाना नहीं आता सरापा राज़ हूँ मैं क्या बताऊँ कौन हूँ क्या हूँ समझता हूँ मगर दुनिया को समझाना नहीं आता

 

वीडियो 4

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
अदब ने दिल के तक़ाज़े उठाए हैं क्या क्या

हामिद अली

ख़ुदी का नश्शा चढ़ा आप में रहा न गया

अमानत अली ख़ान

मुझे दिल की ख़ता पर 'यास' शरमाना नहीं आता

अमानत अली ख़ान

मुझे दिल की ख़ता पर 'यास' शरमाना नहीं आता

शिशिर पारखी

ऑडियो 14

अगर अपनी चश्म-ए-नम पर मुझे इख़्तियार होता

अदब ने दिल के तक़ाज़े उठाए हैं क्या क्या

आँख दिखलाने लगा है वो फ़ुसूँ-साज़ मुझे

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • जिगर मुरादाबादी जिगर मुरादाबादी समकालीन
  • आरज़ू लखनवी आरज़ू लखनवी समकालीन

"लखनऊ" के और शायर

  • मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम
  • मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल
  • इश्क़ औरंगाबादी इश्क़ औरंगाबादी
  • अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ
  • मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा
  • अम्बर बहराईची अम्बर बहराईची
  • मुस्तफ़ा खां यकरंग मुस्तफ़ा खां यकरंग
  • असग़र गोंडवी असग़र गोंडवी
  • नातिक़ गुलावठी नातिक़ गुलावठी
  • वहशत रज़ा अली कलकत्वी वहशत रज़ा अली कलकत्वी