noImage

ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र

फतेहपुर, भारत

ग़ज़ल 20

शेर 25

हम लोग तो मरते रहे क़िस्तों में हमेशा

फिर भी हमें जीने का हुनर क्यूँ नहीं आया

मोम के लोग कड़ी धूप में बैठे हैं

आओ अब उन के पिघलने का तमाशा देखें

  • शेयर कीजिए

सहरा का सफ़र था तो शजर क्यूँ नहीं आया

माँगी थीं दुआएँ तो असर क्यूँ नहीं आया

"फतेहपुर" के और शायर

  • ग़ुलाम मुर्तज़ा राही ग़ुलाम मुर्तज़ा राही
  • अज़ीज़ुर्रहमान शहीद फ़तेहपुरी अज़ीज़ुर्रहमान शहीद फ़तेहपुरी
  • अनीस अंसारी अनीस अंसारी
 

Added to your favorites

Removed from your favorites