Zaheer Dehlvi's Photo'

ज़हीर देहलवी

1825 - 1911 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 49

शेर 34

ख़ैर से रहता है रौशन नाम-ए-नेक

हश्र तक जलता है नेकी का चराग़

शिरकत गुनाह में भी रहे कुछ सवाब की

तौबा के साथ तोड़िए बोतल शराब की

  • शेयर कीजिए

इश्क़ है इश्क़ तो इक रोज़ तमाशा होगा

आप जिस मुँह को छुपाते हैं दिखाना होगा

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 6

Atthara Sau Sattawan Ke Chashmdeed Halaat

 

2006

Auraq-e-Karbala

 

1997

Dastan-e-Ghadar

 

1955

Dastan-e-Ghadar Ya Taraz-e-Zaheeri

 

 

दीवान-ए-ज़हीर

खण्ड-001

1899

इंतिख़ाब-ए-कलाम-ए-ज़हीर देहलवी

 

1989

 

ऑडियो 15

उन को हाल-ए-दिल-ए-पुर-सोज़ सुना कर उट्ठे

जहाँ में कौन कह सकता है तुम को बेवफ़ा तुम हो

जाते हो तुम जो रूठ के जाते हैं जी से हम

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ गुरु
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र शिष्य

"दिल्ली" के और शायर

  • मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम
  • मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल
  • इश्क़ औरंगाबादी इश्क़ औरंगाबादी
  • अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ
  • मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा
  • अम्बर बहराईची अम्बर बहराईची
  • मुस्तफ़ा खां यकरंग मुस्तफ़ा खां यकरंग
  • अमीर मीनाई अमीर मीनाई
  • निज़ाम रामपुरी निज़ाम रामपुरी
  • ज़ैनुल आब्दीन ख़ाँ आरिफ़ ज़ैनुल आब्दीन ख़ाँ आरिफ़