Zahida Zaidi's Photo'

ज़ाहिदा ज़ैदी

1930 - 2011 | अलीगढ़, भारत

भारत की अग्रणी शायरात में विख्यात।

भारत की अग्रणी शायरात में विख्यात।

ग़ज़ल 9

नज़्म 11

शेर 5

ख़्वाब तो ख़्वाब हैं पल भर में बिखर जाते हैं

सच तो ये है कि बस इक काहिश-ए-जाँ रक़्स में है

हमीं से अंजुमन-ए-इश्क़ मो'तबर ठहरी

हमीं को सौंपी गई ग़म की पासबानी भी

कभी इश्क़ साज़-ए-हयात था कभी सोज़-ए-दिल ने जला दिया

कभी वस्ल में भी कसक रही कभी दर्द-ओ-ग़म ने भी मज़ा दिया

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 15

आंतोन चेखव के शाहकार ड्रामे

 

1992

Dharti Ka Lams

 

1975

Dusra Kamra

 

1990

Inqalab Ka Ek Din

 

1996

Inqilab Ka Ek Din

 

1996

Jadeed Maghribi Darame Ke Aham Rujhanat

 

1997

Kiyonkar Us But Se Rakhun Jaan-e-Azeez

 

1998

Lazzat-e-Aashnai

 

2003

Masdood Rahein

 

1998

Rumooz-e-Fikr-o-Fan

 

1993

संबंधित शायर

  • साजिदा ज़ैदी साजिदा ज़ैदी बहन

"अलीगढ़" के और शायर

  • जमुना प्रसाद राही जमुना प्रसाद राही
  • सिराज अजमली सिराज अजमली
  • शोला अलीगढ़ी शोला अलीगढ़ी
  • दानिश अलीगढ़ी दानिश अलीगढ़ी
  • मुईद रशीदी मुईद रशीदी
  • नसीम सिद्दीक़ी नसीम सिद्दीक़ी
  • सय्यद अमीन अशरफ़ सय्यद अमीन अशरफ़
  • साजिदा ज़ैदी साजिदा ज़ैदी
  • वारिस किरमानी वारिस किरमानी
  • मंज़ूर हाशमी मंज़ूर हाशमी

Added to your favorites

Removed from your favorites