Zehra Nigaah's Photo'

ज़ेहरा निगाह

1937 - | कराची, पाकिस्तान

पाकिस्तान की अग्रणी शायरात में विख्यात।

पाकिस्तान की अग्रणी शायरात में विख्यात।

ग़ज़ल

अपना हर अंदाज़ आँखों को तर-ओ-ताज़ा लगा

वहशत में भी मिन्नत-कश-ए-सहरा नहीं होते

नज़्म

''अलिफ़'' और ''बे'' के नाम

इंसाफ़

गुल-चाँदनी

डाकू

नया घर

पुल-सिरात

सुना है

समझौता

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Added to your favorites

Removed from your favorites