Aatif Waheed Yasir's Photo'

आतिफ़ वहीद यासिर

1985 | लाहौर, पाकिस्तान

इश्क़ जैसे कहीं छूने से भी लग जाता हो

कौन बैठेगा भला आप के बीमार के साथ

मिरी राख में थीं कहीं कहीं मेरे एक ख़्वाब की किर्चियाँ

मेरे जिस्म-ओ-जाँ में छुपा हुआ तिरी क़ुर्बतों का ख़याल था

रहज़नों के हाथ सारा इंतिज़ाम आया तो क्या

फिर वफ़ा के मुजरिमों में मेरा नाम आया तो क्या

किस के बदन की नर्मियाँ हाथों को गुदगुदा गईं

दश्त-ए-फ़िराक़-ए-यार को पहलू-ए-यार कर दिया