noImage

अब्दुल वहाब यकरू

अहम क्लासिकी शायर, उर्दू शायरी के आरंभिक दौर के शायरों में शामिल, आबरू के शागिर्द

अहम क्लासिकी शायर, उर्दू शायरी के आरंभिक दौर के शायरों में शामिल, आबरू के शागिर्द

अब्दुल वहाब यकरू

ग़ज़ल 17

शेर 12

प्यासा मत जला साक़ी मुझे गर्मी सीं हिज्राँ की

शिताबी ला शराब-ए-ख़ाम हम ने दिल को भूना है

  • शेयर कीजिए

जभी तू पान खा कर मुस्कुराया

तभी दिल खिल गया गुल की कली का

जने देखा सो ही बौरा हुआ है

तिरे तिल हैं मगर काला धतूरा

  • शेयर कीजिए

जो तूँ मुर्ग़ा नहीं है ज़ाहिद

क्यूँ सहर गाह दे है उठ के बाँग

  • शेयर कीजिए

ख़म-ए-मेहराब-ए-अबरुवाँ के बीच

काम आँखों का है इमामत का

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 2

Deewan-e-Yakru

 

1978

दीवान-ए-यकरू

 

1978