Ahmad Shahryar's Photo'

अहमद शहरयार

1983 | ईरान

ईरान स्थित प्रसिद्ध पाकिस्तानी शायर

ईरान स्थित प्रसिद्ध पाकिस्तानी शायर

ग़ज़ल 14

शेर 15

सालगिरह पर कितनी नेक तमन्नाएँ मौसूल हुईं

लेकिन इन में एक मुबारकबाद अभी तक बाक़ी है

  • शेयर कीजिए

दस्तकें सदा कौन दर पे आया है

फ़क़ीर-ए-शहर है या शहरयार देखिएगा

रातों को जागते हैं इसी वास्ते कि ख़्वाब

देखेगा बंद आँखें तो फिर लौट जाएगा

  • शेयर कीजिए

क़तरा ठीक है दरिया होने में नुक़सान बहुत है

देख तो कैसे डूब रहा है मेरा लश्कर मुझ में

फ़क़ीर-ए-शहर भी रहा हूँ 'शहरयार' भी मगर

जो इत्मिनान फ़क़्र में है ताज-ओ-तख़्त में नहीं