Ajmal Siddiqui's Photo'

अजमल सिद्दीक़ी

1981 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 10

शेर 11

बोल पड़ता तो मिरी बात मिरी ही रहती

ख़ामुशी ने हैं दिए सब को फ़साने क्या क्या

क्या क्या पढ़ा इस मकतब में, कितने ही हुनर सीखे हैं यहाँ

इज़हार कभी आँखों से किया कभी हद से सिवा बेबाक हुआ

दिल तो सादा है तेरी हर बात को सच्चा मानता है

अक़्ल ने बातें करते तेरा आँख चुराना देखा है

संबंधित शायर

  • अभिषेक शुक्ला अभिषेक शुक्ला समकालीन

"दिल्ली" के और शायर

  • शैख़  ज़हूरूद्दीन हातिम शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • राजेन्द्र मनचंदा बानी राजेन्द्र मनचंदा बानी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • ख़्वाजा मीर दर्द ख़्वाजा मीर दर्द
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी