noImage

अख़तर शाहजहाँपुरी

ग़ज़ल 16

शेर 20

अभी तहज़ीब का नौहा लिखना

अभी कुछ लोग उर्दू बोलते हैं

  • शेयर कीजिए

वो जुगनू हो सितारा हो कि आँसू

अँधेरे में सभी महताब से हैं

कोई मंज़र नहीं बरसात के मौसम में भी

उस की ज़ुल्फ़ों से फिसलती हुई धूपों जैसा