Aleena Itrat's Photo'

मुशायरों में लोकप्रिय, प्रसिद्ध कवयित्री

मुशायरों में लोकप्रिय, प्रसिद्ध कवयित्री

ग़ज़ल 22

शेर 44

अपनी मुट्ठी में छुपा कर किसी जुगनू की तरह

हम तिरे नाम को चुपके से पढ़ा करते हैं

  • शेयर कीजिए

कोई आवाज़ आहट कोई हलचल है

ऐसी ख़ामोशी से गुज़रे तो गुज़र जाएँगे

  • शेयर कीजिए

ज़िंदा रहने की ये तरकीब निकाली मैं ने

अपने होने की ख़बर सब से छुपा ली मैं ने

  • शेयर कीजिए

उदासी शाम तन्हाई कसक यादों की बेचैनी

मुझे सब सौंप कर सूरज उतर जाता है पानी में

  • शेयर कीजिए

ठीक है जाओ तअ'ल्लुक़ रखेंगे हम भी

तुम भी वा'दा करो अब याद नहीं आओगे

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

 

चित्र शायरी 3

उदासी शाम तन्हाई कसक यादों की बेचैनी मुझे सब सौंप कर सूरज उतर जाता है पानी में

अपनी मुट्ठी में छुपा कर किसी जुगनू की तरह हम तिरे नाम को चुपके से पढ़ा करते हैं

पुकारते पुकारते सदा ही और हो गई क़ुबूल होते होते हर दुआ ही और हो गई ज़रा सा रुक के दो-घड़ी चमन पे क्या निगाह की बदल गया मिज़ाज-ए-गुल हवा ही और हो गई ये किस के नाम की तपिश से पोर पोर जल उठे हथेलियाँ महक गईं हिना ही और हो गई ख़िज़ाँ ने अपने नाम की रिदा जो गुल पे डाल दी चमन का रंग उड़ गया सबा ही और हो गई ग़ुरूर-ए-आफ़्ताब से ज़मीं का दिल सहम गया तमाम बारिशें थमीं घटा ही और हो गई ख़मोशियों ने ज़ेर-ए-लब ये क्या कहा ये क्या सुना कि काएनात-ए-इश्क़ की अदा ही और हो गई जो वक़्त मेहरबाँ हुआ तो ख़ार फूल बन गए ख़िज़ाँ की ज़र्द ज़र्द सी क़बा ही और हो गई वरक़ वरक़ 'अलीना' हम ने ज़िंदगी से यूँ रंगा कि कातिब-ए-नसीब की रज़ा ही और हो गई

 

वीडियो 3

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

अलीना इतरत

ख़िज़ाँ की ज़र्द सी रंगत बदल भी सकती है

अलीना इतरत

ज़िंदा रहने की ये तरकीब निकाली मैं ने

अलीना इतरत

संबंधित शायर

  • मीना नक़वी मीना नक़वी बहन
  • नुसरत मेहदी नुसरत मेहदी बहन

"नोएडा" के और शायर

  • नोमान शौक़ नोमान शौक़
  • मीना नक़वी मीना नक़वी
  • पी पी श्रीवास्तव रिंद पी पी श्रीवास्तव रिंद
  • अमित बजाज अमित बजाज
  • माधव अवाना माधव अवाना
  • अज़रा नक़वी अज़रा नक़वी
  • जंगवीर सिंह 'राकेश' जंगवीर सिंह 'राकेश'
  • रितेश सिंह 'राहिल' रितेश सिंह 'राहिल'
  • मालिकज़ादा जावेद मालिकज़ादा जावेद
  • मुमताज़ नसीम मुमताज़ नसीम