Asghar Velori's Photo'

असग़र वेलोरी

1931 | चेन्नई, भारत

असग़र वेलोरी

ग़ज़ल 7

अशआर 13

तिरे महल में हज़ारों चराग़ जलते हैं

ये मेरा घर है यहाँ दिल के दाग़ जलते हैं

  • शेयर कीजिए

शिकार अपनी अना का है आज का इंसाँ

जिसे भी देखिए तन्हा दिखाई देता है

  • शेयर कीजिए

लोग अच्छों को भी किस दिल से बुरा कहते हैं

हम को कहने में बुरों को भी बुरा लगता है

  • शेयर कीजिए

दुनिया से ख़त्म हो गया इंसान का वजूद

रहना पड़ा है हम को दरिंदों के दरमियाँ

  • शेयर कीजिए

रौशनी जब से मुझे छोड़ गई

शम्अ रोती है सिरहाने मेरे

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 8

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए