Azhar Faragh's Photo'

पाकिस्तान की नई पीढ़ी के मशहूर शायर, ‘मैं किसी दास्तान से उभरूँगा’ इनके काव्य संग्रह का नाम है

पाकिस्तान की नई पीढ़ी के मशहूर शायर, ‘मैं किसी दास्तान से उभरूँगा’ इनके काव्य संग्रह का नाम है

अज़हर फ़राग़

ग़ज़ल 20

शेर 44

दीवारें छोटी होती थीं लेकिन पर्दा होता था

तालों की ईजाद से पहले सिर्फ़ भरोसा होता था

  • शेयर कीजिए

दफ़्तर से मिल नहीं रही छुट्टी वगर्ना मैं

बारिश की एक बूँद बे-कार जाने दूँ

  • शेयर कीजिए

तेरी शर्तों पे ही करना है अगर तुझ को क़ुबूल

ये सुहुलत तो मुझे सारा जहाँ देता है

  • शेयर कीजिए

ख़तों को खोलती दीमक का शुक्रिया वर्ना

तड़प रही थी लिफ़ाफ़ों में बे-ज़बानी पड़ी

  • शेयर कीजिए

जब तक माथा चूम के रुख़्सत करने वाली ज़िंदा थी

दरवाज़े के बाहर तक भी मुँह में लुक़्मा होता था

  • शेयर कीजिए

क़ितआ 1

 

पुस्तकें 1

Azala

 

2016

 

चित्र शायरी 1

तेरी शर्तों पे ही करना है अगर तुझ को क़ुबूल ये सुहुलत तो मुझे सारा जहाँ देता है

 

वीडियो 3

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

अज़हर फ़राग़

दीवारें छोटी होती थीं लेकिन पर्दा होता था

अज़हर फ़राग़

दीवारें छोटी होती थीं लेकिन पर्दा होता था

अज़हर फ़राग़

संबंधित शायर

  • काशिफ़ हुसैन ग़ाएर काशिफ़ हुसैन ग़ाएर समकालीन
  • तहज़ीब हाफ़ी तहज़ीब हाफ़ी समकालीन
  • रहमान फ़ारिस रहमान फ़ारिस समकालीन

"बहावलपुर" के और शायर

  • ज़ुहूर नज़र ज़ुहूर नज़र
  • अफ़ज़ल ख़ान अफ़ज़ल ख़ान
  • सय्यद ज़ियाउद्दीन नईम सय्यद ज़ियाउद्दीन नईम
  • एहतिशाम हसन एहतिशाम हसन
  • मरयम नाज़ मरयम नाज़
  • ख़ुर्रम आफ़ाक़ ख़ुर्रम आफ़ाक़
  • एजाज तवक्कल एजाज तवक्कल
  • ज़ीशान अतहर ज़ीशान अतहर
  • पारस मज़ारी पारस मज़ारी