ग़ज़ल 20

शेर 14

इतनी पी जाए कि मिट जाए मैं और तू की तमीज़

यानी ये होश की दीवार गिरा दी जाए

the formality of you and I should in wine be drowned

meaning that these barriers of sobriety be downed

the formality of you and I should in wine be drowned

meaning that these barriers of sobriety be downed

  • शेयर कीजिए

ज़िंदगी कट गई मनाते हुए

अब इरादा है रूठ जाने का

  • शेयर कीजिए

हम से तंहाई के मारे नहीं देखे जाते

बिन तिरे चाँद सितारे नहीं देखे जाते

ई-पुस्तक 1

Mat Socha Kar

 

2001

 

संबंधित शायर

  • ख़ुशबीर सिंह शाद ख़ुशबीर सिंह शाद समकालीन
  • सलीम कौसर सलीम कौसर समकालीन
  • अजमल सिराज अजमल सिराज समकालीन