फ़रहत शहज़ाद

ग़ज़ल 20

शेर 14

इतनी पी जाए कि मिट जाए मैं और तू की तमीज़

यानी ये होश की दीवार गिरा दी जाए

  • शेयर कीजिए

ज़िंदगी कट गई मनाते हुए

अब इरादा है रूठ जाने का

  • शेयर कीजिए

अज़ीज़ मुझ को हैं तूफ़ान साहिलों से सिवा

इसी लिए है ख़फ़ा मेरा नाख़ुदा मुझ से

ये ज़मीं ख़्वाब है आसमाँ ख़्वाब है

इक मकाँ ही नहीं ला-मकाँ ख़्वाब है

हम से तंहाई के मारे नहीं देखे जाते

बिन तिरे चाँद सितारे नहीं देखे जाते

पुस्तकें 1

Mat Socha Kar

 

2001

 

संबंधित शायर

  • ख़ुशबीर सिंह शाद ख़ुशबीर सिंह शाद समकालीन
  • सलीम कौसर सलीम कौसर समकालीन
  • अजमल सिराज अजमल सिराज समकालीन