Firaq Gorakhpuri's Photo'

फ़िराक़ गोरखपुरी

1896 - 1982 | इलाहाबाद, भारत

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायरों में विख्यात, जिन्होंने आधुनिक उर्दू गज़ल के लिए राह बनाई/अपने गहरे आलोचनात्मक विचारों के लिए विख्यात/भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायरों में विख्यात, जिन्होंने आधुनिक उर्दू गज़ल के लिए राह बनाई/अपने गहरे आलोचनात्मक विचारों के लिए विख्यात/भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित

ग़ज़ल 65

नज़्म 7

शेर 161

तमाम शबनम-ओ-गुल है वो सर से ता-ब-क़दम

रुके रुके से कुछ आँसू रुकी रुकी सी हँसी

  • शेयर कीजिए

वो कुछ रूठी हुई आवाज़ में तज्दीद-ए-दिल-दारी

नहीं भूला तिरा वो इल्तिफ़ात-ए-सर-गिराँ अब तक

  • शेयर कीजिए

उसी दुनिया के कुछ नक़्श-ओ-निगार अशआ'र हैं मेरे

जो पैदा हो रही है हक़्क़-ओ-बातिल के तसादुम से

  • शेयर कीजिए

रुबाई 61

लतीफ़े 21

ई-पुस्तक 73

अनार कली

 

1945

Andaze

 

1959

Andaze

 

1956

Batein Firaq Se

 

1998

Charaghan

 

1966

एक सौ एक नज़्में

 

1962

फ़िराक़ : सदी की आवाज़

 

1996

फ़िराक़ : सदी की आवाज़

 

2000

Firaq Aur Nai Nasl

 

1997

Firaq Gorakhpuri

 

1984

चित्र शायरी 18

तुम्हें क्यूँकर बताएँ ज़िंदगी को क्या समझते हैं समझ लो साँस लेना ख़ुद-कुशी करना समझते हैं किसी बदमस्त को राज़-आश्ना सब का समझते हैं निगाह-ए-यार तुझ को क्या बताएँ क्या समझते हैं बस इतने पर हमें सब लोग दीवाना समझते हैं कि इस दुनिया को हम इक दूसरी दुनिया समझते हैं कहाँ का वस्ल तन्हाई ने शायद भेस बदला है तिरे दम भर के मिल जाने को हम भी क्या समझते हैं उमीदों में भी उन की एक शान-ए-बे-नियाज़ी है हर आसानी को जो दुश्वार हो जाना समझते हैं यही ज़िद है तो ख़ैर आँखें उठाते हैं हम उस जानिब मगर ऐ दिल हम इस में जान का खटका समझते हैं कहीं हों तेरे दीवाने ठहर जाएँ तो ज़िंदाँ है जिधर को मुँह उठा कर चल पड़े सहरा समझते हैं जहाँ की फितरत-ए-बेगाना में जो कैफ़-ए-ग़म भर दें वही जीना समझते हैं वही मरना समझते हैं हमारा ज़िक्र क्या हम को तो होश आया मोहब्बत में मगर हम क़ैस का दीवाना हो जाना समझते हैं न शोख़ी शोख़ है इतनी न पुरकार इतनी पुरकारी न जाने लोग तेरी सादगी को क्या समझते हैं भुला दीं एक मुद्दत की जफ़ाएँ उस ने ये कह कर तुझे अपना समझते थे तुझे अपना समझते हैं ये कह कर आबला-पा रौंदते जाते हैं काँटों को जिसे तलवों में कर लें जज़्ब उसे सहरा समझते हैं ये हस्ती नीस्ती सब मौज-ख़ेज़ी है मोहब्बत की न हम क़तरा समझते हैं न हम दरिया समझते हैं 'फ़िराक़' इस गर्दिश-ए-अय्याम से कब काम निकला है सहर होने को भी हम रात कट जाना समझते हैं

वीडियो 24

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Firaq Gorakhpuri - a rare video

फ़िराक़ गोरखपुरी

आधी रात

1 फ़िराक़ गोरखपुरी

हर साज़ से होती नहीं ये धुन पैदा

फ़िराक़ गोरखपुरी

ऑडियो 26

कुछ इशारे थे जिन्हें दुनिया समझ बैठे थे हम

कमी न की तिरे वहशी ने ख़ाक उड़ाने में

किसी का यूँ तो हुआ कौन उम्र भर फिर भी

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

और देखिए

संबंधित शायर

  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी समकालीन
  • राज़ चाँदपुरी राज़ चाँदपुरी समकालीन
  • वसीम ख़ैराबादी वसीम ख़ैराबादी गुरु
  • जिगर मुरादाबादी जिगर मुरादाबादी समकालीन
  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी समकालीन
  • बिस्मिल सईदी बिस्मिल सईदी समकालीन
  • आनंद नारायण मुल्ला आनंद नारायण मुल्ला समकालीन
  • तालिब बाग़पती तालिब बाग़पती समकालीन
  • जोश मलसियानी जोश मलसियानी समकालीन
  • अब्दुल मजीद सालिक अब्दुल मजीद सालिक समकालीन

"इलाहाबाद" के और शायर

  • अकबर इलाहाबादी अकबर इलाहाबादी
  • सूर्यकांत त्रिपाठी सूर्यकांत त्रिपाठी
  • अफ़सर इलाहाबादी अफ़सर इलाहाबादी
  • हैरत इलाहाबादी हैरत इलाहाबादी
  • आनंद नारायण मुल्ला आनंद नारायण मुल्ला
  • एहतिशाम हुसैन एहतिशाम हुसैन
  • राज़ इलाहाबादी राज़ इलाहाबादी
  • सुहैल अहमद ज़ैदी सुहैल अहमद ज़ैदी
  • शबनम नक़वी शबनम नक़वी
  • साहिल अहमद साहिल अहमद

Added to your favorites

Removed from your favorites