Firaq Gorakhpuri's Photo'

फ़िराक़ गोरखपुरी

1896 - 1982 | इलाहाबाद, भारत

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायरों में विख्यात, जिन्होंने आधुनिक उर्दू गज़ल के लिए राह बनाई/अपने गहरे आलोचनात्मक विचारों के लिए विख्यात/भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायरों में विख्यात, जिन्होंने आधुनिक उर्दू गज़ल के लिए राह बनाई/अपने गहरे आलोचनात्मक विचारों के लिए विख्यात/भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित

फ़िराक़ गोरखपुरी

ग़ज़ल 68

शेर 167

बहुत पहले से उन क़दमों की आहट जान लेते हैं

तुझे ज़िंदगी हम दूर से पहचान लेते हैं

एक मुद्दत से तिरी याद भी आई हमें

और हम भूल गए हों तुझे ऐसा भी नहीं

  • शेयर कीजिए

मौत का भी इलाज हो शायद

ज़िंदगी का कोई इलाज नहीं

  • शेयर कीजिए

कोई समझे तो एक बात कहूँ

इश्क़ तौफ़ीक़ है गुनाह नहीं

  • शेयर कीजिए

तुम मुख़ातिब भी हो क़रीब भी हो

तुम को देखें कि तुम से बात करें

  • शेयर कीजिए

उद्धरण 26

किताबों की दुनिया मुर्दों और ज़िंदों दोनों के बीच की दुनिया है।

  • शेयर कीजिए

वही शायरी अमर होती है या बहुत दिनों तक ज़िंदा रहती है जिसमें ज़्यादा से ज़्यादा लफ़्ज़ ऐसे आएं जिन्हें अनपढ़ लोग भी जानते और बोलते हैं।

  • शेयर कीजिए

अवाम में और बड़े अदीब में यह फ़र्क़ नहीं होता कि अवाम कम लफ़्ज़ जानती है और अदीब ज़ियादा लफ़्ज़ जानता है। इन दोनों में फ़र्क़ यह होता है कि अवाम को अपने लफ़्ज़ हर मौक़े पर याद नहीं आते। अवाम अपने लफ़्ज़ों को हैरत-अंगेज़ तौर पर मिला कर फ़िक़रे नहीं बना सकते, उन्हें ज़ोरदार तरीक़े पर इस्तिमाल नहीं कर सकते, लेकिन अदीब अवाम ही के अलफ़ाज़ से ये सब कुछ कर के दिखा देता है।

  • शेयर कीजिए

सोज़-ओ-गुदाज़ में जब पुख़्तगी जाती है तो ग़म, ग़म नहीं रहता बल्कि एक रुहानी संजीदगी में बदल जाता है।

  • शेयर कीजिए

उर्दू को मिटा देना हिन्दी के लिए अच्छा नहीं है। हिन्दी को मिटा देना उर्दू के लिए अच्छा नहीं है। हिन्दी और उर्दू दोनों एक ही तस्वीर के दो रुख़ हैं।

  • शेयर कीजिए

रुबाई 61

क़िस्सा 21

लेख 12

तंज़-ओ-मज़ाह 1

 

पुस्तकें 102

अनार कली

 

1945

Andaze

 

1956

Batein Firaq Se

Firaq Ka Taweel Interview

1998

Charaghan

 

1966

Dharti ki Karwat

Muntakhab Nazmein

1966

एक सौ एक नज़्में

 

1962

Firaq Aur Nai Nasl

 

1997

Firaq Gorakhpuri

Hindustani Adab Ke Memar

2006

Firaq Gorakhpuri

Shakhsiyat, Shairi aur Shanaakht

2014

Firaq Gorakhpuri

Fan Aur Shakhsiyat

1986

चित्र शायरी 22

आए थे हँसते खेलते मय-ख़ाने में 'फ़िराक़' जब पी चुके शराब तो संजीदा हो गए

तुम मुख़ातिब भी हो क़रीब भी हो तुम को देखें कि तुम से बात करें

बहुत दिनों में मोहब्बत को ये हुआ मा'लूम जो तेरे हिज्र में गुज़री वो रात रात हुई

कोई समझे तो एक बात कहूँ इश्क़ तौफ़ीक़ है गुनाह नहीं

बहुत दिनों में मोहब्बत को ये हुआ मा'लूम जो तेरे हिज्र में गुज़री वो रात रात हुई

कोई समझे तो एक बात कहूँ इश्क़ तौफ़ीक़ है गुनाह नहीं

तुम्हें क्यूँकर बताएँ ज़िंदगी को क्या समझते हैं समझ लो साँस लेना ख़ुद-कुशी करना समझते हैं किसी बदमस्त को राज़-आश्ना सब का समझते हैं निगाह-ए-यार तुझ को क्या बताएँ क्या समझते हैं बस इतने पर हमें सब लोग दीवाना समझते हैं कि इस दुनिया को हम इक दूसरी दुनिया समझते हैं कहाँ का वस्ल तन्हाई ने शायद भेस बदला है तिरे दम भर के मिल जाने को हम भी क्या समझते हैं उमीदों में भी उन की एक शान-ए-बे-नियाज़ी है हर आसानी को जो दुश्वार हो जाना समझते हैं यही ज़िद है तो ख़ैर आँखें उठाते हैं हम उस जानिब मगर ऐ दिल हम इस में जान का खटका समझते हैं कहीं हों तेरे दीवाने ठहर जाएँ तो ज़िंदाँ है जिधर को मुँह उठा कर चल पड़े सहरा समझते हैं जहाँ की फितरत-ए-बेगाना में जो कैफ़-ए-ग़म भर दें वही जीना समझते हैं वही मरना समझते हैं हमारा ज़िक्र क्या हम को तो होश आया मोहब्बत में मगर हम क़ैस का दीवाना हो जाना समझते हैं न शोख़ी शोख़ है इतनी न पुरकार इतनी पुरकारी न जाने लोग तेरी सादगी को क्या समझते हैं भुला दीं एक मुद्दत की जफ़ाएँ उस ने ये कह कर तुझे अपना समझते थे तुझे अपना समझते हैं ये कह कर आबला-पा रौंदते जाते हैं काँटों को जिसे तलवों में कर लें जज़्ब उसे सहरा समझते हैं ये हस्ती नीस्ती सब मौज-ख़ेज़ी है मोहब्बत की न हम क़तरा समझते हैं न हम दरिया समझते हैं 'फ़िराक़' इस गर्दिश-ए-अय्याम से कब काम निकला है सहर होने को भी हम रात कट जाना समझते हैं

ये माना ज़िंदगी है चार दिन की बहुत होते हैं यारो चार दिन भी

वीडियो 28

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

फ़िराक़ गोरखपुरी

Firaq Gorakhpuri - a rare video

फ़िराक़ गोरखपुरी

आधी रात

1 फ़िराक़ गोरखपुरी

हर साज़ से होती नहीं ये धुन पैदा

फ़िराक़ गोरखपुरी

ऑडियो 26

कुछ इशारे थे जिन्हें दुनिया समझ बैठे थे हम

कमी न की तिरे वहशी ने ख़ाक उड़ाने में

किसी का यूँ तो हुआ कौन उम्र भर फिर भी

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित ब्लॉग

 

संबंधित शायर

  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी समकालीन
  • राज़ चाँदपुरी राज़ चाँदपुरी समकालीन
  • मोहसिन ज़ैदी मोहसिन ज़ैदी शिष्य
  • वसीम ख़ैराबादी वसीम ख़ैराबादी गुरु
  • जिगर मुरादाबादी जिगर मुरादाबादी समकालीन
  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी समकालीन
  • बिस्मिल सईदी बिस्मिल सईदी समकालीन
  • आनंद नारायण मुल्ला आनंद नारायण मुल्ला समकालीन
  • तालिब बाग़पती तालिब बाग़पती समकालीन
  • जोश मलसियानी जोश मलसियानी समकालीन

"इलाहाबाद" के और शायर

  • आनंद नारायण मुल्ला आनंद नारायण मुल्ला
  • शबनम नक़वी शबनम नक़वी
  • अफ़ज़ल इलाहाबादी अफ़ज़ल इलाहाबादी
  • ख़्वाजा जावेद अख़्तर ख़्वाजा जावेद अख़्तर
  • ज़फ़र अंसारी ज़फ़र ज़फ़र अंसारी ज़फ़र
  • अब्दुल हमीद अब्दुल हमीद
  • अजमल अजमली अजमल अजमली
  • आज़म करेवी आज़म करेवी
  • साहिल अहमद साहिल अहमद
  • सुहैल अहमद ज़ैदी सुहैल अहमद ज़ैदी