Hafeez Merathi's Photo'

हफ़ीज़ मेरठी

1922 - 2000 | मेरठ, भारत

लोकप्रिय शायर, अपने शेर 'शीशा टूटे ग़ुल मच जाए…' के लिए मशहूर।

लोकप्रिय शायर, अपने शेर 'शीशा टूटे ग़ुल मच जाए…' के लिए मशहूर।

ग़ज़ल 16

शेर 19

वो वक़्त का जहाज़ था करता लिहाज़ क्या

मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया

शीशा टूटे ग़ुल मच जाए

दिल टूटे आवाज़ आए

  • शेयर कीजिए

इक अजनबी के हाथ में दे कर हमारा हाथ

लो साथ छोड़ने लगा आख़िर ये साल भी

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 6

Hafeez Meeruti Fan Aur Shakhsiyat

 

1993

Hafeez Merathi: Hayat Aur Shairi

 

2007

Sher-o-Shuoor

 

 

Sher-o-Shuoor

 

1970

Shumara Number-001,002

1957

 

चित्र शायरी 1

लहू से अपने ज़मीं लाला-ज़ार देखते थे बहार देखने वाले बहार देखते थे सुरूर एक झलक का तमाम उम्र रहा हवस-परस्त थे जो बार बार देखते थे कभी कभी हमें दुनिया हसीन लगती थी कभी कभी तिरी आँखों में प्यार देखते थे चला वो दौर-ए-सितम घर में छुप के बैठ गए जो हर सलीब को मर्दाना-वार देखते थे

 

संबंधित शायर

  • मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद समकालीन
  • उबैद सिद्दीक़ी उबैद सिद्दीक़ी शिष्य
  • जगन्नाथ आज़ाद जगन्नाथ आज़ाद समकालीन
  • आमिर उस्मानी आमिर उस्मानी समकालीन

"मेरठ" के और शायर

  • शमीम जयपुरी शमीम जयपुरी
  • अफ़सर मेरठी अफ़सर मेरठी
  • पॉपुलर मेरठी पॉपुलर मेरठी
  • शबाब मेरठी शबाब मेरठी
  • शौक़ मुरादाबादी शौक़ मुरादाबादी
  • अलीम अख़्तर अलीम अख़्तर
  • अज़हर इक़बाल अज़हर इक़बाल
  • इस्माइल मेरठी इस्माइल मेरठी
  • दीपक क़मर दीपक क़मर
  • असरारुल हक़ असरार असरारुल हक़ असरार