Jaun Eliya's Photo'

जौन एलिया

1931 - 2002 | कराची, पाकिस्तान

पाकिस्तान के अग्रणी आधुनिक शायरों में से एक, अपने अपारम्परिक अंदाज़ के लिए मशहूर।

पाकिस्तान के अग्रणी आधुनिक शायरों में से एक, अपने अपारम्परिक अंदाज़ के लिए मशहूर।

जौन एलिया

ग़ज़ल 171

नज़्म 17

अशआर 175

जो गुज़ारी जा सकी हम से

हम ने वो ज़िंदगी गुज़ारी है

मैं भी बहुत अजीब हूँ इतना अजीब हूँ कि बस

ख़ुद को तबाह कर लिया और मलाल भी नहीं

  • शेयर कीजिए

ये मुझे चैन क्यूँ नहीं पड़ता

एक ही शख़्स था जहान में क्या

ज़िंदगी किस तरह बसर होगी

दिल नहीं लग रहा मोहब्बत में

बहुत नज़दीक आती जा रही हो

बिछड़ने का इरादा कर लिया क्या

मर्सिया 1

 

क़ितआ 22

पुस्तकें 33

चित्र शायरी 39

वीडियो 130

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

जौन एलिया

Jaun Elia about Ubaidullah Aleem 1/3

जौन एलिया

Jaun Elia about Ubaidullah Aleem 2/3

जौन एलिया

Jaun Elia about Ubaidullah Aleem 3/3

जौन एलिया

Jaun Elia I

जौन एलिया

Jaun Eliya at a mushaira

जौन एलिया

Jaun Eliya at a mushaira

जौन एलिया

Jaun Eliya at a mushaira

जौन एलिया

Jaun Eliya at a mushaira

जौन एलिया

Jaun Eliya at a mushaira

जौन एलिया

Jaun Eliya at a mushaira

जौन एलिया

Jaun Eliya at a mushaira

जौन एलिया

Jaun Eliya at a mushaira

जौन एलिया

Jaun Eliya reciting at a mushaira

जौन एलिया

Kitne aish udaate honge- by Jaun Eliya

जौन एलिया

kuhs guzaraan-e-shehar-e-ghum

जौन एलिया

Nazm-Saza

जौन एलिया

uth samadhi se dhayan ki uth chal

जौन एलिया

Wo tabyat ke mere tha bhi nahi

जौन एलिया

बे-क़रारी सी बे-क़रारी है

जौन एलिया

साल-हा-साल और इक लम्हा

जौन एलिया

हम रहे पर नहीं रहे आबाद

जौन एलिया

हमारे ज़ख़्म-ए-तमन्ना पुराने हो गए हैं

जौन एलिया

जौन एलिया

आज भी तिश्नगी की क़िस्मत में

जौन एलिया

आप अपना ग़ुबार थे हम तो

जौन एलिया

उम्र गुज़रेगी इम्तिहान में क्या

जौन एलिया

उम्र गुज़रेगी इम्तिहान में क्या

जौन एलिया

उस के पहलू से लग के चलते हैं

जौन एलिया

उस के पहलू से लग के चलते हैं

जौन एलिया

एक ही मुज़्दा सुब्ह लाती है

जौन एलिया

कभी जब मुद्दतों के बा'द उस का सामना होगा

जौन एलिया

कितने ऐश से रहते होंगे कितने इतराते होंगे

जौन एलिया

कितने ऐश से रहते होंगे कितने इतराते होंगे

जौन एलिया

किसी से अहद-ओ-पैमाँ कर न रहियो

जौन एलिया

गाहे गाहे बस अब यही हो क्या

जौन एलिया

गाहे गाहे बस अब यही हो क्या

जौन एलिया

चलो बाद-ए-बहारी जा रही है

जौन एलिया

चाँद की पिघली हुई चाँदी में

जौन एलिया

जुज़ गुमाँ और था ही क्या मेरा

जौन एलिया

जी ही जी में वो जल रही होगी

जौन एलिया

जो रानाई निगाहों के लिए फ़िरदौस-ए-जल्वा है

जौन एलिया

ठीक है ख़ुद को हम बदलते हैं

जौन एलिया

तंग आग़ोश में आबाद करूँगा तुझ को

जौन एलिया

तंग आग़ोश में आबाद करूँगा तुझ को

जौन एलिया

दरख़्त-ए-ज़र्द

नहीं मालूम 'ज़रयून' अब तुम्हारी उम्र क्या होगी जौन एलिया

दिल ने वफ़ा के नाम पर कार-ए-वफ़ा नहीं किया

जौन एलिया

नया इक रिश्ता पैदा क्यूँ करें हम

जौन एलिया

बे-क़रारी सी बे-क़रारी है

जौन एलिया

बे-दिली क्या यूँही दिन गुज़र जाएँगे

जौन एलिया

मैं न ठहरूँ न जान तू ठहरे

जौन एलिया

ये तेरे ख़त तिरी ख़ुशबू ये तेरे ख़्वाब-ओ-ख़याल

जौन एलिया

रम्ज़

तुम जब आओगी तो खोया हुआ पाओगी मुझे जौन एलिया

रम्ज़

तुम जब आओगी तो खोया हुआ पाओगी मुझे जौन एलिया

रम्ज़

तुम जब आओगी तो खोया हुआ पाओगी मुझे जौन एलिया

रम्ज़

तुम जब आओगी तो खोया हुआ पाओगी मुझे जौन एलिया

रूह प्यासी कहाँ से आती है

जौन एलिया

रूह प्यासी कहाँ से आती है

जौन एलिया

शर्मिंदगी है हम को बहुत हम मिले तुम्हें

जौन एलिया

सज़ा

हर बार मेरे सामने आती रही हो तुम जौन एलिया

समझ में ज़िंदगी आए कहाँ से

जौन एलिया

सर ही अब फोड़िए नदामत में

जौन एलिया

सर ही अब फोड़िए नदामत में

जौन एलिया

हू का आलम है यहाँ नाला-गरों के होते

जौन एलिया

है बिखरने को ये महफ़िल-ए-रंग-ओ-बू तुम कहाँ जाओगे हम कहाँ जाएँगे

जौन एलिया

हम कहाँ और तुम कहाँ जानाँ

जौन एलिया

हालत-ए-हाल के सबब हालत-ए-हाल ही गई

जौन एलिया

हालत-ए-हाल के सबब हालत-ए-हाल ही गई

जौन एलिया

ऑडियो 26

कितने ऐश से रहते होंगे कितने इतराते होंगे

कितने ऐश से रहते होंगे कितने इतराते होंगे

जुज़ गुमाँ और था ही क्या मेरा

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित ब्लॉग

 

संबंधित शायर

"कराची" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए