Javed Kamal Rampuri's Photo'

जावेद कमाल रामपुरी

1930 - 1978 | अलीगढ़, भारत

जावेद कमाल रामपुरी

ग़ज़ल 14

नज़्म 4

 

अशआर 10

फिर कई ज़ख़्म-ए-दिल महक उट्ठे

फिर किसी बेवफ़ा की याद आई

  • शेयर कीजिए

अब तो जाओ रस्म-ए-दुनिया की

मैं ने दीवार भी गिरा दी है

  • शेयर कीजिए

हाथ फिर बढ़ रहा है सू-ए-जाम

ज़िंदगी की उदासियों को सलाम

  • शेयर कीजिए

अगर सुकून से उम्र-ए-अज़ीज़ खोना हो

किसी की चाह में ख़ुद को तबाह कर लीजे

  • शेयर कीजिए

वही बे-वज्ह उदासी वही बे-नाम ख़लिश

राह-ओ-रस्म-ए-दिल-ए-नाकाम से जी डरता है

  • शेयर कीजिए

क़ितआ 7

पुस्तकें 1

 

"अलीगढ़" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए