Jazib Quraishi's Photo'

जाज़िब क़ुरैशी

1940 - 2021 | कराची, पाकिस्तान

जाज़िब क़ुरैशी

ग़ज़ल 21

अशआर 9

क्यूँ माँग रहे हो किसी बारिश की दुआएँ

तुम अपने शिकस्ता दर-ओ-दीवार तो देखो

तेरी यादों की चमकती हुई मशअ'ल के सिवा

मेरी आँखों में कोई और उजाला ही नहीं

  • शेयर कीजिए

मिरे वजूद के ख़ुश्बू-निगार सहरा में

वो मिल गए हैं तो मिल कर बिछड़ भी सकते हैं

  • शेयर कीजिए

दफ़्तर की थकन ओढ़ के तुम जिस से मिले हो

उस शख़्स के ताज़ा लब-ओ-रुख़्सार तो देखो

मिरी शाइ'री में छुप कर कोई और बोलता है

सर-ए-आइना जो देखूँ तो वो शख़्स दूसरा है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 4

 

"कराची" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए