noImage

ख़ालिद सिद्दीक़ी

ख़ालिद सिद्दीक़ी

ग़ज़ल 4

 

शेर 6

इक और खेत पक्की सड़क ने निगल लिया

इक और गाँव शहर की वुसअत में खो गया

ये कैसी हिजरतें हैं मौसमों में

परिंदे भी नहीं हैं घोंसलों में

बे-कार है बे-म'अनी है अख़बार की सुर्ख़ी

लिक्खा है जो दीवार पे वो ग़ौर-तलब है

बहुत तन्हा है वो ऊँची हवेली

मिरे गाँव के इन कच्चे घरों में

यूँ अगर घटते रहे इंसाँ तो 'ख़ालिद' देखना

इस ज़मीं पर बस ख़ुदा की बस्तियाँ रह जाएँगी