Khwaja Mohammad Wazir's Photo'

ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर

1795 - 1854 | लखनऊ, भारत

19 वीं सदी के शायर, अपने शेर " तिरछी नज़रों से न देखो आशिक़-ए-दिलगीर को " के लिए मशहूर

19 वीं सदी के शायर, अपने शेर " तिरछी नज़रों से न देखो आशिक़-ए-दिलगीर को " के लिए मशहूर

ग़ज़ल 31

शेर 66

देखना हसरत-ए-दीदार इसे कहते हैं

फिर गया मुँह तिरी जानिब दम-ए-मुर्दन अपना

  • शेयर कीजिए

है साया चाँदनी और चाँद मुखड़ा

दुपट्टा आसमान-ए-आसमाँ है

  • शेयर कीजिए

आया है मिरे दिल का ग़ुबार आँसुओं के साथ

लो अब तो हुई मालिक-ए-ख़ुश्की-ओ-तरी आँख

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 3

दफ्तर-ए-फ़साहत

 

1847

Intikhab Khvaja Wazir

 

1983

Mazhar-e-Ishq

 

1896

 

चित्र शायरी 1

जब ख़फ़ा होता है तो यूँ दिल को समझाता हूँ मैं आज है ना-मेहरबाँ कल मेहरबाँ हो जाएगा

 

संबंधित शायर

  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर समकालीन

"लखनऊ" के और शायर

  • मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम
  • इश्क़ औरंगाबादी इश्क़ औरंगाबादी
  • मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल
  • अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ
  • अम्बर बहराईची अम्बर बहराईची
  • मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा
  • मुस्तफ़ा खां यकरंग मुस्तफ़ा खां यकरंग
  • वज़ीर अली सबा लखनवी वज़ीर अली सबा लखनवी
  • रिन्द लखनवी रिन्द लखनवी
  • मिर्ज़ा सलामत अली दबीर मिर्ज़ा सलामत अली दबीर