Majid-ul-Baqri's Photo'

माजिद-अल-बाक़री

ग़ज़ल 13

नज़्म 1

 

शेर 10

बीस बरस से इक तारे पर मन की जोत जगाता हूँ

दीवाली की रात को तू भी कोई दिया जलाया कर

क़रीब देख के उस को ये बात किस से कहूँ

ख़याल दिल में जो आया गुनाह जैसा था

बात करना है करो सामने इतराओ नहीं

जो नहीं जानते उस बात को समझाओ नहीं

पुस्तकें 1

Taak Jhank

 

1967