noImage

ममनून निज़ामुद्दीन

? - 1844 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 14

शेर 8

ये जाने थे कि उस महफ़िल में दिल रह जाएगा

हम ये समझे थे चले आएँगे दम भर देख कर

i did not know that at her place my heart would choose to stay

I had thought a moments glance and we would come away

i did not know that at her place my heart would choose to stay

I had thought a moments glance and we would come away

  • शेयर कीजिए

कल वस्ल में भी नींद आई तमाम शब

एक एक बात पर थी लड़ाई तमाम शब

ख़्वाब में बोसा लिया था रात ब-लब-ए-नाज़की

सुब्ह दम देखा तो उस के होंठ पे बुतख़ाला था

ई-पुस्तक 6

Kulliyat-e-Mamnoon

Volume-001

1972

Mukhtar Ashaar

Volume-001

1896

Mutala Meer Nizamuddin Mamnoon

Hayat Shakhsiyat Aur Shayari

1972

 

ऑडियो 10

कब गुल है हवा-ख़्वाह सबा अपने चमन का

कल वस्ल में भी नींद न आई तमाम शब

कोई हमदर्द न हमदम न यगाना अपना

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"दिल्ली" के और शायर

  • हकीम आग़ा जान ऐश हकीम आग़ा जान ऐश
  • सौरभ शेखर सौरभ शेखर
  • जावेद जमील जावेद जमील
  • सुधांशु फ़िरदौस सुधांशु फ़िरदौस
  • हीरा लाल फ़लक देहलवी हीरा लाल फ़लक देहलवी
  • मीनू बख़्शी मीनू बख़्शी
  • नज़र बर्नी नज़र बर्नी
  • वलीउल्लाह वली वलीउल्लाह वली
  • शकील शम्सी शकील शम्सी
  • द्वारका दास शोला द्वारका दास शोला