Manzar Lakhnavi's Photo'

मंज़र लखनवी

- 1965

ग़ज़ल 21

शेर 60

दर्द हो दिल में तो दवा कीजे

और जो दिल ही हो तो क्या कीजे

ग़म में कुछ ग़म का मशग़ला कीजे

दर्द की दर्द से दवा कीजे

तफ़रीक़ हुस्न-ओ-इश्क़ के अंदाज़ में हो

लफ़्ज़ों में फ़र्क़ हो मगर आवाज़ में हो

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

दीवान-ए-मंजर

मंजरीस्तान

1959