Mohammad Ahmad Ramz's Photo'

मोहम्मद अहमद रम्ज़

1932 - 2010 | कानपुर, भारत

नई ग़ज़ल के प्रतिष्ठित शायर

नई ग़ज़ल के प्रतिष्ठित शायर

ग़ज़ल 36

शेर 11

तुम गए हो तुम मुझ को ज़रा सँभलने दो

अभी तो नश्शा सा आँखों में इंतिज़ार का है

  • शेयर कीजिए

हर्फ़ को लफ़्ज़ कर लफ़्ज़ को इज़हार दे

कोई तस्वीर मुकम्मल बना उस के लिए

अल्फ़ाज़ की गिरफ़्त से है मावरा हनूज़

इक बात कह गया वो मगर कितने काम की

जैसे ख़ला के पस-मंज़र में रंग रंग के नक़्श-ओ-निगार

बातें उस की वज़्न से ख़ाली लहजा भारी-भरकम है

  • शेयर कीजिए

कौन पूछे मुझ से मेरी गोशा-गीरी का सबब

कौन समझे दर कभी दीवार कर लेना मिरा

पुस्तकें 1

Insan Ki Kahani

 

1958

 

"कानपुर" के और शायर

  • ज़ेब ग़ौरी ज़ेब ग़ौरी
  • नुशूर वाहिदी नुशूर वाहिदी
  • फ़ना निज़ामी कानपुरी फ़ना निज़ामी कानपुरी
  • अबुल हसनात हक़्क़ी अबुल हसनात हक़्क़ी
  • मतीन नियाज़ी मतीन नियाज़ी
  • मयंक अवस्थी मयंक अवस्थी
  • शोएब निज़ाम शोएब निज़ाम
  • असलम महमूद असलम महमूद
  • इशरत ज़फ़र इशरत ज़फ़र
  • चाँदनी पांडे चाँदनी पांडे