Rahi Fidai's Photo'

राही फ़िदाई

1949 | बैंगलोर, भारत

राही फ़िदाई

ग़ज़ल 12

अशआर 11

हर एक शाख़ थी लर्ज़ां फ़ज़ा में चीख़-ओ-पुकार

हवा के हाथ में इक आब-दार ख़ंजर था

  • शेयर कीजिए

लज़्ज़त का ज़हर वक़्त-ए-सहर छोड़ कर कोई

शब के तमाम रिश्ते फ़रामोश कर गया

  • शेयर कीजिए

हवस-गिरफ़्ता हवाओ निगाहें नीची रखो

शजर खड़े हैं सड़क के क़रीन बे-पर्दा

  • शेयर कीजिए

किसी को साया किसी को गुल-ओ-समर देगा

हरा-भरा है दरख़्त-ए-रिवाज रहने दो

  • शेयर कीजिए

हादसों के ख़ौफ़ से एहसास की हद में था

वर्ना नफ़्स-ए-मुतमइन सफ़्फ़ाक होता ग़ालिबन

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 27

"बैंगलोर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए