noImage

रंगीन सआदत यार ख़ाँ

1756 - 1835 | लखनऊ, भारत

उर्दू शायरी की विधा ' रेख़्ती ' के लिए प्रसिद्ध जिसमें शायर औरतों की भाषा में बोलता है

उर्दू शायरी की विधा ' रेख़्ती ' के लिए प्रसिद्ध जिसमें शायर औरतों की भाषा में बोलता है

ग़ज़ल 10

शेर 9

बादल आए हैं घिर गुलाल के लाल

कुछ किसी का नहीं किसी को ख़याल

  • शेयर कीजिए

ज़ुल्म की टहनी कभी फलती नहीं

नाव काग़ज़ की कहीं चलती नहीं

  • शेयर कीजिए

झूटा कभी झूटा होवे

झूटे के आगे सच्चा रोवे

  • शेयर कीजिए

रेख़्ती 12

पुस्तकें 12

Deewan-e-Rangeen

Istelahat-e-Begmaat

 

दीवान-ए-रंगीन, इंशा

 

 

Deewan-e-Rangeen, Insha

 

1924

इजाद-ए-रंगीन

 

1852

Fars Nama-e-Rangeen

 

1876

Intikhab-e-Rekhti

 

1983

Majalis-e-Rangeen

 

1990

Majalis-e-Rangeen

 

1929

मसनवी-ए-रंगीन

 

1845

Musaddas-e-Rangeen

 

1952

संबंधित शायर

  • मीर तक़ी मीर मीर तक़ी मीर समकालीन

"लखनऊ" के और शायर

  • मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम मिर्ज़ा आसमान जाह अंजुम
  • अम्बर बहराईची अम्बर बहराईची
  • मुस्तफ़ा खां यकरंग मुस्तफ़ा खां यकरंग
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • इमाम बख़्श नासिख़ इमाम बख़्श नासिख़
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • मिर्ज़ा शौक़ लखनवी मिर्ज़ा शौक़ लखनवी
  • गोया फ़क़ीर मोहम्मद गोया फ़क़ीर मोहम्मद
  • ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर
  • वज़ीर अली सबा लखनवी वज़ीर अली सबा लखनवी