Saeed Qais's Photo'

सईद क़ैस

- 2018 | बहरैन

सईद क़ैस

ग़ज़ल 18

शेर 9

चाँद मशरिक़ से निकलता नहीं देखा मैं ने

तुझ को देखा है तो तुझ सा नहीं देखा मैं ने

ये वाक़िआ' मिरी आँखों के सामने का है

शराब नाच रही थी गिलास बैठे रहे

तुम अपने दरिया का रोना रोने जाते हो

हम तो अपने सात समुंदर पीछे छोड़ आए हैं

चेहरा चेहरा ग़म है अपने मंज़र में

और आँखों के पीछे एक नुमाइश है

तुम से मिलने का बहाना तक नहीं

और बिछड़ जाने के हीले हैं बहुत

पुस्तकें 1

Kulliyat-e-Saeed Qais

 

2016

 

संबंधित शायर

  • ख़ुर्शीद अलीग ख़ुर्शीद अलीग शिष्य