Saima Esma's Photo'

साइमा इसमा

लाहौर, पाकिस्तान

ग़ज़ल 8

नज़्म 8

शेर 7

न-जाने कैसी निगाहों से मौत ने देखा

हुई है नींद से बेदार ज़िंदगी कि मैं हूँ

कभी कभी तो अच्छा-ख़ासा चलते चलते

यूँ लगता है आगे रस्ता कोई नहीं है

जाने फिर मुँह में ज़बाँ रखने का मसरफ़ क्या है

जो कहा चाहते हैं वो तो नहीं कह सकते

क़ितआ 4

 

पुस्तकें 1

गुल-ए-दोपहर

 

2006

 

"लाहौर" के और शायर

  • वसी शाह वसी शाह
  • शाहीन अब्बास शाहीन अब्बास
  • नासिर ज़ैदी नासिर ज़ैदी
  • अली अकबर नातिक़ अली अकबर नातिक़
  • सय्यद अंजुमन जाफ़री सय्यद अंजुमन जाफ़री
  • गुलज़ार बुख़ारी गुलज़ार बुख़ारी
  • नाहीद क़ासमी नाहीद क़ासमी
  • आसिमा ताहिर आसिमा ताहिर
  • नदीम भाभा नदीम भाभा
  • शहनाज़ मुज़म्मिल शहनाज़ मुज़म्मिल