noImage

शाद लखनवी

1805 - 1899

शाद लखनवी के संपूर्ण

ग़ज़ल 52

शेर 19

वो नहा कर ज़ुल्फ़-ए-पेचाँ को जो बिखराने लगे

हुस्न के दरिया में पिन्हाँ साँप लहराने लगे

  • शेयर कीजिए

इश्क़-ए-मिज़्गाँ में हज़ारों ने गले कटवाए

ईद-ए-क़ुर्बां में जो वो ले के छुरी बैठ गया

ख़ुदा का डर होता गर बशर को

ख़ुदा जाने ये बंदा क्या करता

  • शेयर कीजिए

तड़पने की इजाज़त है फ़रियाद की है

घुट के मर जाऊँ ये मर्ज़ी मिरे सय्याद की है

  • शेयर कीजिए

वस्ल में बेकार है मुँह पर नक़ाब

शरम का आँखों पे पर्दा चाहिए

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Sukhan-e-Bemisal: Deewan-e-Shad

 

1901

 

संबंधित शायर

  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन समकालीन
  • सख़ी लख़नवी सख़ी लख़नवी समकालीन
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र समकालीन
  • मिर्ज़ा सलामत अली दबीर मिर्ज़ा सलामत अली दबीर समकालीन
  • मीर अनीस मीर अनीस समकालीन
  • मुस्तफ़ा ख़ाँ शेफ़्ता मुस्तफ़ा ख़ाँ शेफ़्ता समकालीन
  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब समकालीन
  • लाला माधव राम जौहर लाला माधव राम जौहर समकालीन
  • मीर तस्कीन देहलवी मीर तस्कीन देहलवी समकालीन
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ समकालीन