Shahid Kamal's Photo'

शाहिद कमाल

1982 | लखनऊ, भारत

ग़ज़ल 38

शेर 4

जंग का शोर भी कुछ देर तो थम सकता है

फिर से इक अम्न की अफ़्वाह उड़ा दी जाए

  • शेयर कीजिए

तीर मत देख मिरे ज़ख़्म को देख

यार-ए-यार अपना अदू में गुम है

इस आजिज़ी से किया उस ने मेरे सर का सवाल

ख़ुद अपने हाथ से तलवार तोड़ दी मैं ने

पुस्तकें 2

कराची में उर्दू ग़ज़ल और नज़्म

 

1999

Rasm-eTakallum

 

1991

 

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • अज़ीज़ बानो दाराब  वफ़ा अज़ीज़ बानो दाराब वफ़ा
  • मीर अनीस मीर अनीस
  • मुनव्वर राना मुनव्वर राना
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़
  • रिन्द लखनवी रिन्द लखनवी
  • यगाना चंगेज़ी यगाना चंगेज़ी