Shamim Hanafi's Photo'

शमीम हनफ़ी

1938 | दिल्ली, भारत

अग्रणी उर्दू आलोचक और भारतीय संस्कृति के विद्वान

अग्रणी उर्दू आलोचक और भारतीय संस्कृति के विद्वान

ग़ज़ल 30

शेर 5

मैं ने चाहा था कि लफ़्ज़ों में छुपा लूँ ख़ुद को

ख़ामुशी लफ़्ज़ की दीवार गिरा देती है

वो एक शोर सा ज़िंदाँ में रात भर क्या था

मुझे ख़ुद अपने बदन में किसी का डर क्या था

तमाम उम्र नए लफ़्ज़ की तलाश रही

किताब-ए-दर्द का मज़मूँ था पाएमाल ऐसा

कहानी 2

 

लेख 1

 

ई-पुस्तक 62

अाप अपना तमाशाई

 

2014

अदब, अदीब और मुआशरती तशद्दुद

 

2008

Azadi Ke Baad Dehli Mein Urdu Khaka

 

1991

Azadi Ke Bad Urdu Nazam

 

2005

बाज़ार में नींद

 

1998

भारत के मुसलमान

माज़ी, हाल और मुसतक़बिल

2007

भूतों का जहाज़

 

1992

दूकान-ए-शीशा गराँ

किताबें और लोग

2008

एक बौने का क़िस्सा

 

2013

फ़िराक़,शायर और शख़्स

 

1983

वीडियो 41

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Aana usika bazm se jana usi ka hai

शमीम हनफ़ी

Ab qais hai na koi aabla paa hai

शमीम हनफ़ी

Aise kai sawaal hain jinka jawab kuch nahi

शमीम हनफ़ी

Bas ek wahem satata hai baar baar mujhe

शमीम हनफ़ी

Har naksh e Nawa laut ke jaane ke liye tha

शमीम हनफ़ी

Is tarah ishq me barbaad nahi reh sakte

शमीम हनफ़ी

Kai raato se bas ek shor sa kuch sar me rehta hai

शमीम हनफ़ी

Kitab padhte rahe aur udaas hote rahe

Professor Shamim Hanfi was born on 17th May 1939 in Sultanpur, Uttar Pradesh to a renowned advocate Mohd. Yaseen Siddiqui. Early life was spent in Sultanpur but had to move to Allahabad for study purpose where he came in contact with Firaq Sb who left a profound impression upon him. He had served as a faculty for Aligarh Muslim University before Joining Jamia Millia Islamia. He is now Professor Emeritus at the same University. He is reciting his Ghazal at Rekhta Studio. शमीम हनफ़ी

Phir lautke is bazm me aane ke nahi hain

शमीम हनफ़ी

Roz o shab ki guthiyaan aankhon ko suljhane na de

शमीम हनफ़ी

Shaam Aai Sehn e Jaam e Khauf ka bistar laga

शमीम हनफ़ी

Shola shola si hawa sheesha e shab se pucho

शमीम हनफ़ी

Tilism hai ke tamasha hai kaynaat uski

शमीम हनफ़ी

Zere zameen dabi hui

शमीम हनफ़ी

शमीम हनफ़ी

aanaa usii kaa bazm se jaanaa usii kaa hai

शमीम हनफ़ी

ab qais hai ko.ii na ko.ii aabla-paa hai

शमीम हनफ़ी

aise ka.ii savaal hai.n jin kaa javaab kuchh nahii.n

शमीम हनफ़ी

bas ek vahm sataataa hai baar baar mujhe

शमीम हनफ़ी

har naqsh-e-navaa lauT ke jaane ke liye thaa

शमीम हनफ़ी

is tarah ishq me.n barbaad nahii.n rah sakte

शमीम हनफ़ी

ka.ii raato.n se bas ik shor saa kuchh sar me.n rahtaa hai

शमीम हनफ़ी

kitaab pa.Dhte rahe aur udaas hote rahe

शमीम हनफ़ी

phir lauT ke is bazm me.n aane ke nahii.n hai.n

शमीम हनफ़ी

roz o shab kii gutthiyaa.n aa.nkho.n ko suljhaane na de

शमीम हनफ़ी

shaam aa.ii sehn-e-jaa.n me.n KHauf kaa bistar lagaa

शमीम हनफ़ी

sho.ala sho.ala thii havaa shiisha-e-shab se puuchho

शमीम हनफ़ी

tilism hai ki tamaashaa hai kaa.enaat us kii

शमीम हनफ़ी

zer-e-zamii.n dabii hu.ii KHaak ko aasaa.n kaho

शमीम हनफ़ी

इस तरह इश्क़ में बर्बाद नहीं रह सकते

शमीम हनफ़ी

कभी सहरा में रहते हैं कभी पानी में रहते हैं

शमीम हनफ़ी

नीले पीले सियाह सुर्ख़ सफ़ेद सब थे शामिल इसी तमाशे में

शमीम हनफ़ी

बंद कर ले खिड़कियाँ यूँ रात को बाहर न देख

शमीम हनफ़ी

लक़ड़हारे तुम्हारे खेल अब अच्छे नहीं लगते

शमीम हनफ़ी

वो एक शोर सा ज़िंदाँ में रात भर क्या था

शमीम हनफ़ी

शोला शोला थी हवा शीशा-ए-शब से पूछो

शमीम हनफ़ी

सूरज धीरे धीरे पिघला फिर तारों में ढलने लगा

शमीम हनफ़ी

ऑडियो 20

अब क़ैस है कोई न कोई आबला-पा है

आना उसी का बज़्म से जाना उसी का है

इस तरह इश्क़ में बर्बाद नहीं रह सकते

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • किश्वर नाहीद किश्वर नाहीद समकालीन

"दिल्ली" के और शायर

  • मुज़फ़्फ़र अबदाली मुज़फ़्फ़र अबदाली
  • असरार जामई असरार जामई
  • राशिद जमाल फ़ारूक़ी राशिद जमाल फ़ारूक़ी
  • नश्तर अमरोहवी नश्तर अमरोहवी
  • नियाज़ हैदर नियाज़ हैदर
  • कमाल अहमद सिद्दीक़ी कमाल अहमद सिद्दीक़ी
  • अबीर अबुज़री अबीर अबुज़री
  • नज़्मी सिकंदराबादी नज़्मी सिकंदराबादी
  • मीर शम्सुद्दीन फ़क़ीर मीर शम्सुद्दीन फ़क़ीर
  • सहबा वहीद सहबा वहीद

Added to your favorites

Removed from your favorites