noImage

शम्स फ़र्रुख़ाबादी

आँखें धोका दे गईं पाँव छोड़ गए साथ

सभी सहारे दूर हैं किस का पकड़ें हाथ

भले बुरे बरताव का है इतना सा राज़

गूँजे पलट के जिस तरह गुम्बद की आवाज़

एक बगूला साँस का हवा जिसे तैराए

हवा हवा में जा मिले बस माटी रह जाए

बिछड़े हुओं के आज फिर ख़त कुछ ऐसे आए

जैसे पटरी रेल की दूर पे इक हो जाए