Sheikh Ibrahim Zauq's Photo'

Sheikh Ibrahim Zauq

1790 - 1854 | Delhi, India

Poet laureate of the Mughal Court and mentor of Bahadur Shah Zafar. His 'poetic' rivalry with Ghalib is well known.

Poet laureate of the Mughal Court and mentor of Bahadur Shah Zafar. His 'poetic' rivalry with Ghalib is well known.

Sheikh Ibrahim Zauq

Ghazal 61

Sher 73

tum bhuul kar bhī yaad nahīñ karte ho kabhī

ham to tumhārī yaad meñ sab kuchh bhulā chuke

tum bhul kar bhi yaad nahin karte ho kabhi

hum to tumhaari yaad mein sab kuchh bhula chuke

  • Share this

ek aañsū ne Duboyā mujh ko un bazm meñ

buuñd bhar paanī se saarī aabrū paanī huī

a single tear caused my fall in her company

just a drop of water drowned my dignity

ek aansu ne Duboya mujh ko un ki bazm mein

bund bhar pani se sari aabru pani hui

a single tear caused my fall in her company

just a drop of water drowned my dignity

ab to ghabrā ke ye kahte haiñ ki mar jā.eñge

mar ke bhī chain na paayā to kidhar jā.eñge

being agitated I express the hope to die, although

in death, if solace is not found, then where shall I go?

ab to ghabra ke ye kahte hain ki mar jaenge

mar ke bhi chain na paya to kidhar jaenge

being agitated I express the hope to die, although

in death, if solace is not found, then where shall I go?

zāhid sharāb piine se kāfir huā maiñ kyuuñ

kyā DeḌh chullū paanī meñ īmān bah gayā

यह शे’र मायनी और लक्षण दोनों दृष्टि से दिलचस्प है। शे’र में वही शब्द इस्तेमाल किए गए हैं, जिन्हें उर्दू ग़ज़ल की परम्परा की विशेषता समझा जाता है। जैसे ज़ाहिद-ए-शराब, काफ़िर, ईमान। मगर मायनी की सतह पर ज़ौक़ ने व्यंग्य के लहजे से जो बात पैदा की है वो पाठक को चौंका देती है। शे’र में ज़ाहिद के सम्बंध से शराब, काफ़िर के सम्बंध से ईमान के अलावा पीने, पानी और बहने से जो स्थिति पैदा हुई है वो अपने आप में एक शायराना कमाल है। ज़ाहिद उर्दू ग़ज़ल की परम्परा में उन पात्रों में से एक है जिन पर शायरों ने खुल कर तंज़ किए हैं।

शे’र के किरदार ज़ाहिद से सवाल पूछता है कि शराब पीने से आदमी काफ़िर कैसे हो सकता है, क्या ईमान इस क़दर कमज़ोर चीज़ होती है कि ज़रा से पानी के साथ बह जाती है। इस शे’र के पंक्तियों के बीच में ज़ाहिद पर जो तंज़ किया गया है वो “डेढ़ चुल्लू” पानी से स्पष्ट होता है। यानी मैंने तो ज़रा सी शराब पी ली है और तुमने मुझ पर काफ़िर होने का फ़तवा जारी कर दिया। क्या तुम्हारी नज़र में ईमान इतनी कमज़ोर चीज़ है कि ज़रा सी शराब पीने से ख़त्म हो जाती है।

zahid sharab pine se kafir hua main kyun

kya DeDh chullu pani mein iman bah gaya

यह शे’र मायनी और लक्षण दोनों दृष्टि से दिलचस्प है। शे’र में वही शब्द इस्तेमाल किए गए हैं, जिन्हें उर्दू ग़ज़ल की परम्परा की विशेषता समझा जाता है। जैसे ज़ाहिद-ए-शराब, काफ़िर, ईमान। मगर मायनी की सतह पर ज़ौक़ ने व्यंग्य के लहजे से जो बात पैदा की है वो पाठक को चौंका देती है। शे’र में ज़ाहिद के सम्बंध से शराब, काफ़िर के सम्बंध से ईमान के अलावा पीने, पानी और बहने से जो स्थिति पैदा हुई है वो अपने आप में एक शायराना कमाल है। ज़ाहिद उर्दू ग़ज़ल की परम्परा में उन पात्रों में से एक है जिन पर शायरों ने खुल कर तंज़ किए हैं।

शे’र के किरदार ज़ाहिद से सवाल पूछता है कि शराब पीने से आदमी काफ़िर कैसे हो सकता है, क्या ईमान इस क़दर कमज़ोर चीज़ होती है कि ज़रा से पानी के साथ बह जाती है। इस शे’र के पंक्तियों के बीच में ज़ाहिद पर जो तंज़ किया गया है वो “डेढ़ चुल्लू” पानी से स्पष्ट होता है। यानी मैंने तो ज़रा सी शराब पी ली है और तुमने मुझ पर काफ़िर होने का फ़तवा जारी कर दिया। क्या तुम्हारी नज़र में ईमान इतनी कमज़ोर चीज़ है कि ज़रा सी शराब पीने से ख़त्म हो जाती है।

ai 'zauq' takalluf meñ hai taklīf sarāsar

ārām meñ hai vo jo takalluf nahīñ kartā

save trouble, in formality, zauq nothing else can be

at ease he then remains he who, eschews formality

ai 'zauq' takalluf mein hai taklif sarasar

aaram mein hai wo jo takalluf nahin karta

save trouble, in formality, zauq nothing else can be

at ease he then remains he who, eschews formality

Qita 4

 

BOOKS 61

Deewan-e-Zauq

 

 

Deewan-e-Zauq

 

1960

Deewan-e-Zauq

 

1923

Deewan-e-Zauq

 

1910

Deewan-e-Zauq

 

 

Deewan-e-Zauq

 

 

Deewan-e-Zauq

 

1957

Deewan-e-Zauq

 

1913

Deewan-e-Zauq

 

1907

Deewan-e-Zauq

 

1898

Image Shayari 16

kitne muflis ho ga.e kitne tava.ngar ho ga.e KHaak me.n jab mil ga.e dono.n baraabar ho ga.e

tuu bhalaa hai to buraa ho nahii.n saktaa ai 'zauq' hai buraa vo hii ki jo tujh ko buraa jaantaa hai aur agar tuu hii buraa hai to vo sach kahtaa hai kyuu.n buraa kahne se tuu us ke buraa maantaa hai

kyaa jaane use vahm hai kyaa merii taraf se jo KHvaab me.n bhii raat ko tanhaa nahii.n aataa

ek aa.nsuu ne Duboyaa mujh ko un kii bazm me.n buu.nd bhar paanii se saarii aabruu paanii hu.ii

Videos 16

This video is playing from YouTube

Playing videos from section
Other
Gair Sah bakht hi hona tha naseebon me mere

Kundan Lal Saigal

Gar siyaah-bakht hi hona tha naseebon mein mere

Kundan Lal Saigal

Is tapish ka hai mazaa dil hi ko haasil

Unknown

Tera beemaar na sambhlaa

Unknown

ab to ghabra ke ye kahte hain ki mar jaayenge

Sheikh Ibrahim Zauq

ab to ghabra ke ye kahte hain ki mar jaayenge

Sudeep Banerjee

ab to ghabraa ke ye kahte hai.n ki mar jaa.e.nge

Unknown

ab to ghabraa ke ye kahte hai.n ki mar jaa.e.nge

Teena Sani

KHuub rokaa shikaayato.n se mujhe

Mehran Amrohi

laa.ii hayaat aa.e qazaa le chalii chale

Shishir Parkhie

laa.ii hayaat aa.e qazaa le chalii chale

Iqbal Bano

laa.ii hayaat aa.e qazaa le chalii chale

Hariharan

laa.ii hayaat aa.e qazaa le chalii chale

Iqbal Bano

laa.ii hayaat aa.e qazaa le chalii chale

Mehran Amrohi

laai hayaat aaye qaza le chali chale

Begum Akhtar

laai hayaat aaye qaza le chali chale

Sheikh Ibrahim Zauq

laai hayaat aaye qaza le chali chale

Kundan Lal Saigal

laai hayaat aaye qaza le chali chale

Sheikh Ibrahim Zauq

Audios 14

laa.ii hayaat aa.e qazaa le chalii chale

aate hii tuu ne ghar ke phir jaane kii sunaa.ii

ab to ghabraa ke ye kahte hai.n ki mar jaa.e.nge

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

RELATED Blog

 

RELATED Poets

  • Meer Anees Meer Anees Contemporary
  • Shad Lakhnavi Shad Lakhnavi Contemporary
  • Shefta Mustafa Khan Shefta Mustafa Khan Contemporary
  • Momin Khan Momin Momin Khan Momin Contemporary
  • Zaheer Dehlvi Zaheer Dehlvi Disciple
  • Mohammad Husain Azad Mohammad Husain Azad Disciple
  • Taashshuq Lakhnavi Taashshuq Lakhnavi Contemporary
  • Mufti Sadruddin Aazurda Mufti Sadruddin Aazurda Contemporary
  • Lala Madhav Ram Jauhar Lala Madhav Ram Jauhar Contemporary
  • Mirza Ghalib Mirza Ghalib Contemporary

More Poets From "Delhi"

  • Shaikh Zahuruddin Hatim Shaikh Zahuruddin Hatim
  • Farhat Ehsas Farhat Ehsas
  • Shah Naseer Shah Naseer
  • Dagh Dehlvi Dagh Dehlvi
  • Abroo Shah Mubarak Abroo Shah Mubarak
  • Bekhud Dehlvi Bekhud Dehlvi
  • Rajinder Manchanda Bani Rajinder Manchanda Bani
  • Anisur Rahman Anisur Rahman
  • Khwaja Meer Dard Khwaja Meer Dard
  • Momin Khan Momin Momin Khan Momin